योनि का सूखापन - कारण, बचाव और उपचार

Vaginal dryness in hindi

Yoni ke sukhepan ka karan, वैजाइना में सूखापन


एक नज़र

  • योनि में सूखापन महसूस होना कुछ गलत नहीं है।
  • रजोनिवृती(menopause) हर महिला की आयु में आने वाला एक पड़ाव है।
  • योनिक सूखापन प्राकृतिक और कुछ कारणों से हो सकता है।
  • योनि सूखने के कारण अलग-अलग हो सकते हैं।
triangle

Introduction

yoni_ke_sukhepan_ka_karan

सुनीता अपनी तीस वर्षीय सहेली कुसुम को उसके पुत्र के जन्म पर बधाई देने गई तब वहाँ उसे नवप्रसूता, प्रसन्न होने के स्थान पर थोड़ी परेशान नज़र आई ।
जब सुनीता ने उसकी परेशानी का कारण पूछा तब झिझकते हुए उसने जो बताया तो सुनीता को हंसी आ गई। कुसुम ने हैरान होते हुए जब सुनीता की हंसी का कारण जानना चाहा, तब सुनीता ने कहा कि इसमें परेशान होने की कोई बात नहीं है, यह समय के साथ ठीक हो जाएगा। लेकिन कुसुम को सुनीता की बात पर यकीन नहीं हुआ। तब सुनीता ने अपनी जेठानी श्रीमती माला, जो स्वयं एक प्रतिष्ठित महिला चिकित्सक भी थी, को फोन करके वहाँ बुला लिया।
माला जी के आते ही कुसुम ने बताया कि पुत्र जन्म के कुछ समय बाद ही उसे अपनी योनि में सूखापन महसूस हो रही है। इस कारण उसे अपने पति के साथ संभोग की इच्छा भी नहीं होती है। तब माला जी ने कुसुम की समस्या को समझते हुए कहा कि इस स्थिति को योनि में सूखापन या शुष्कता होना कहा जाता है। माला जी ने योनि में सूखेपन के जो कारण बताए, आपको इस लेख में उनके बारे में बताते हैं।

loading image

इस लेख़ में

 

योनि में चिकनाहट क्या होती है?

What is lubrication in female vagina in hindi

yoni chiknahat kya hoti hai

माला जी ने कुसुम को समझाते हुए बताया कि हर महिला की योनि प्राकृतिक रूप से नमी या चिकनाई से भरपूर होती है। नारी योनि में चिकनाहट (vaginal lubrication in hindi), योनि में आंतरिक रूप से बनी हुई कुछ ग्रंथि कोशिकाओं (glands) के द्वारा उत्पन्न की जाती है। इस चिकनाहट के कारण योनि का हर प्रकार के इन्फेक्शन से बचाव होता रहता है। यह चिकनाहट या नमी जिस लिक्विड के कारण होती है, वह एसिडिक (Acidic) प्रकृति का होता है और इसका काम योनि को हमेशा स्वस्थ रखना होता है। यही लिक्विड योनि से स्त्राव के रूप में बाहर आता है जिसे सफ़ेद पानी या व्हाइट डिस्चार्ज (White Discharge) कहा जाता है। यह सुनकर कुसुम को समझ आया कि जिस डिस्चार्ज को वह बीमारी समझती थी, वह तो एक सामान्य प्रक्रिया है जिससे उसकी योनि स्वस्थ रहती है। योनि में होने वाली इस चिकनाहट के कारण ही महिलाओं को संभोग के समय असहनीय दर्द सहन करने से बच जाती हैं।

loading image
 

योनि सूखेपन के क्या लक्षण होते है

What are the symptoms of vaginal dryness in hindi

Yoni sukhepan ke kya lakshan hote hai in hindi

माला जी ने कुसुम को योनि में सूखापन के क्या लक्षण हो सकते है समझाते हुए बताया कि योनि का सूखापन योनि और श्रोणि क्षेत्रों में असुविधा पैदा कर सकता है। योनि में सूखापन के लक्षण निम्न हो सकते है -

  • योनि में जलन होना
  • सेक्स में रुचि की कमी
  • संभोग के साथ योनि में दर्द होना
  • संभोग के बाद हल्का रक्तस्राव
  • मूत्र पथ के संक्रमण (यूटीआई) जो ठीक नहीं होते हैं या जो बार बार विकसित होते हैं
  • योनि की खुजली या चुभन

योनि में सूखापन महिलाओं मे शर्मिंदगी महसूस करवा सकता है। शर्मिंदगी के कारण यह महिलाओं को अपने चिकित्सक या साथी के साथ लक्षणों पर चर्चा करने से रोक सकता है। हालाँकि, योनि का सूखापन एक सामान्य घटना है जो कई महिलाओं को प्रभावित करती है। इसमें शर्मिंदगी महसूस करने की कोई बात नहीं है अगर आप इसमें चर्चा करे या अपने डॉक्टर के साथ शेयर करे तो इसे आसानी से ठीक किया जा सकता है।

और पढ़ें:अजवाइन, प्याज़ एवं लहसुन बढ़ाते है यौन इच्छा
 

योनि के सूखने के कारण क्या हैं?

What are the reasons of vaginal dryness in hindi

mahila yoni ke sukhne ke karan kya ho sakti hai, yoni me dryness ke kya karan hote hai

डॉ माला ने अब कुसुम की परेशानी का जवाब देते हुए कहा कि महिला की योनि सामान्य रूप से रजोनिवृत्ति (Menopause) के समय शुष्क हो जाती है। दूसरे शब्दों में कहें तो लगभग पचास वर्ष या कभी-कभी 45 वर्ष के बाद महिलाएं मासिक धर्म की अवस्था को पार करने लगती हैं। यह स्थिति ही रजोनिवृत्ति कहलाती है। लेकिन कुछ विशेष कारणों में महिलाओं को योनि के सूखेपन का सामना इस अवस्था से पहले भी करना पड़ सकता है।

महिला योनि की शुष्कता के अप्राकृतिक कारण:

जब महिला योनि में सूखापन निर्धारित समय से पहले होती है तब उन कारणों को अप्राकृतिक माना जाता है। यह कारण निम्न हो सकते हैं:

1. एस्ट्रोजेन हार्मोन की कमी:
कभी-कभी नारी शरीर में एस्ट्रोजेन हार्मोन जिसका काम योनि की नमी के स्तर को बनाए रखना है, में कमी आ जाती है तब योनि में सूखापन हो सकती है।
कुसुम के पूछने पर डॉ माला ने एस्ट्रोजेन हार्मोन के कम होने के कारण इस प्रकार बताए:

  • शिशु जन्म के समय (At birth of baby) शिशु को प्राकृतिक रूप से (योनि के जरिये) जन्म देने के समय योनि और गुदा के बीच के स्थान (मूलाधार, पेरिनियम) में कुछ चीरा लगाने से भी दर्द के कारण योनि में सूखापन आकर असहजता महसूस होना सामान्य है।
  • प्रसव के बाद स्तनपान का समय (Lactation time after delivery)
    बच्चे के जन्म के बाद महिला के शरीर में एस्ट्रोजन हॉर्मोन की मात्रा कम हो जाती है जिस कारण इस दौरान योनि में सूखेपन की शिकायत रहती है।
  • नियमित रूप से धूम्रपान व मदिरापान करना (Smoking and Drinking Alcohol)
    धूम्रपान और मदिरापान शरीर के ऊतकों में रक्त के प्रवाह को प्रभावित करता है अगर महिलाये सिगरेट पीती हैं, या मदिरापान करती है तो उन्हें योनि में सूखेपनका अनुभव हो सकता है।
  • किसी कारण से शरीर से ओवरी का निकाल दिया जाना (Hysterectomy)
    हिस्टेरेकटोमी (hysterectomy) गर्भाशय और/ या ओवरी को सर्जरी के बाद निकाल दिए जाने के कारण भी योनि में सूखापन होना सामान्य है इसका कारण महिला के शरीर में होने वाला हार्मोनल परिवर्तन माना गया है।
  • शरीर में इमम्युनिटी सिस्टम में परेशानी होना
  • कैंसर के इलाज के रूप में किमोथेरेपी का होना (Cancer treatment) कैंसर के उपचार के कारण जैसे किमोथेरेपी अंडाशय को नुकसान पहुंचा सकती है इस कारण एस्ट्रोजेन हॉरमोन का उत्पादन कम हो जाता है। इससे योनि लुब्रीकेंट की मात्रा कम हो जाती है और योनि में सूखापन का कारण बनती है।
  • कुछ दवाओं के साइड इफेक्ट के रूप में (Side effects of drugs)
    गर्भनिरोधक गोलियों के सेवन से भी योनि में सूखेपन की शिकायत रहती है। अस्थमारोधी दवाइयों का लंबे समय तक सेवन भी योनि में शुष्कता बढ़ा सकती है।

2. वैजिनल डूशिंग (Vaginal douching) जब महिलाएं योनि को नियमित रूप से खंगालती (Douching) हैं, तब इससे योनि में पनपने वाले स्वस्थ बैक्टीरिया को नुकसान होता है। डूशिंग यानि योनि को खँगालने के लिए सुगंध वाले साबुन, स्प्रे, लोशन, परफ्यूम आदि का इस्तेमाल करती हैं जिससे योनि की चिकनाहट को बनाए रखने वाला स्वस्थ बैक्टीरिया मर जाता है। इस कारण भी योनि में सूखापन आ जाता है।

3. दवाओं का साइड इफेक्ट (Side effects of medicines) कभी-कभी कुछ बीमारियों जैसे दमा, एलर्जी, निमोनिया(Pneumonia) में ली गई दवाओं के प्रभाव के कारण शरीर में ड्राइनेस या शुष्कता बढ़ जाती है। इन दवाओं में साँस फूलने की परेशानी को ठीक करने वाली दवाएं होती हैं जिससे शरीर में शुष्कता बढ़ जाती है। इसके अलावा तनाव-विरोधी और गर्भनिरोधक दवाओं का भी योनि के लिक्विड पर बुरा प्रभाव पड़ता है। शरीर में होने वाली शुष्कता का असर योनि में मौजूद लिक्विड पर भी होता है और उसमें भी कमी आ जाती है। इसके कारण योनि में सूखापन बढ़ जाता है।

4. तनावपूर्ण जीवन शैली (Stressful lifestyle) अगर कोई महिला लंबे समय तक तनाव, उत्तेजना (Anxiety) के दौर से गुजरती हैं तब इससे न केवल कामेच्छा में कमी आ जाती है, बल्कि योनि से निकलने वाले स्त्राव में भी कमी हो जाती है। यही योनि में सूखापन के बढ़ने का कारण भी होती है।

5. इमम्युनिटी सम्बन्धी रोग (Immunity related disease) अगर कभी किसी महिला के शरीर के इमम्युनिटी सिस्टम (Immunity System) में परेशानी हो जाये तब इसका सीधा प्रभाव शरीर के सेल्स पर होता है। इस स्थिति में भी योनि के सेल्स अप्रभावित नहीं रहते हैं और उनमें योनि को चिकना करने की क्षमता कम हो जाती है।

6. कठोर व्यायाम (Rigorous exercise)
कठोर व्यायाम जैसे वेटलिफ्टिँग (weight lifiting), रस्सी कूदना और तीव्र पेट के व्यायाम से आपके शरीर पर बहुत अधिक तनाव पैदा हो जाता है। यह शरीर और योनि के ब्लूड सरकुलेशन पर प्रभाव डालता है और वैजिनल इचिंग(Vaginal itching) और योनि मे सुखापन पैदा करता है। योनि के सूखेपन से बचने के लिए हल्के व्यायाम करने चाहिए।

महिला योनि में सूखेपन के प्राकृतिक कारण:

डॉ माला ने कुसुम को बताया कि योनि की शुष्कता सामान्य स्थिति में प्राकृतिक कारणों से ही होती है। कुछ महिलाएं पूरी जानकारी के अभाव में इसे योनि रोग (Vaginal Disease) भी मान लेतीं हैं, जो सही नहीं है। जब एक महिला 50 वर्ष की आयु पर पहुँचने वाली होती है, तब उसके शरीर में आंतरिक रूप से परिवर्तन होने लगते हैं। इन परिवर्तनों में मुख्य रूप से उन सभी हार्मोन में कमी आना होता है जो शरीर के विभिन्न अंगों में लचिलापन बनाए रखने के लिए जरूरी होते हैं। इसी प्रक्रिया में महिलाओं के अंडाशय (Ovaries) में से एस्ट्रोजेन हार्मोन का बनना और निकलना बंद हो जाता है। यह अवस्था रजोनिवृत्ति (Menopause) की कहलाती है। इस अवस्था में योनि की परत पहले की तरह मोटी नहीं रहती है और एस्ट्रोजेन हार्मोन की कमी के कारण योनि में शुष्कता आ जाती है। चिकित्सकीय भाषा में इसे योनि एट्रोफी (Yoni Atrophy) कहा जाता है।

loading image
 

क्या योनि शुष्कता सामान्य बात है?

Is vaginal dryness a normal phenomenon in hindi

kya yoni sukhna samanya baat hai, क्या योनि मे सूखापन सामान्य बात है

अब तक डॉ माला की बात सुनकर कुसुम को बहुत कुछ समझ में आ गया था और इसी के साथ उसे अपनी सखी की हंसी का राज़ भी समझ आ गया था। फिर भी उसने डॉ माला से पूछा, कि क्या योनि का सूखापन एक सामान्य बात है?
तब डॉ माला ने कहा कि अगर योनि में शुष्कता प्राकृतिक कारणों से हो तब यह एक सामान्य बात है। यद्यपि योनि में सूखापन एक सामान्य घटना है, कई महिलाएं इसके बारे में, यहां तक ​​कि अपने डॉक्टरों से भी इस बारे में बात करने से हिचकती हैं। हालांकि, इस मुद्दे से बचना महिला के स्वास्थ्य के साथ-साथ आपकी सेक्स लाइफ को भी गंभीर रूप से नुकसान पहुंचा सकता है। योनि सामान्य रूप से आत्म-स्नेहक है, और उत्तेजना होने पर एक रंगहीन, पारदर्शी पदार्थ का उत्पादन करेगी जो योनि को लुब्रीकेंट बनाता है। यह न केवल संभोग को संभव बनाता है, बल्कि सुखद संवेदनाओं को बनाने में भी मदद करता है। यदि किसी कारणवश योनि में सूखापन आता है और महिलाये किसी के साथ शेयर नहीं करती है तब इस बेचैनी से बचने के लिए महिलाओं को सेक्स करने से बचना पड़ सकता है, जो रिश्तों के भीतर समस्याएं पैदा हो सकती हैं।

और पढ़ें:ओरल सेक्स दे सकता है कई बिमारियों को न्योता
 

योनि में सूखापन कैसे दूर किया जा सकता है?

How vaginal dryness can be treated in hindi

yoni ka sukhna kaise dur kiya ja sakta hai

डॉ माला से कुसुम ने जानना चाहा कि योनि कि शुष्कता किसी भी कारण से हो, क्या उसे दूर करने का कोई उपाय है। तब डॉ माला ने हँसते हुआ कहा, कि हाँ तुम योनि के सूखेपन को दूर करने के लिए घरेलू उपाय या चिकित्सक की दवा से भी कर सकती हो। इसके साथ ही कुछ इलाज निम्नलिखित है -

  • स्थानीय एस्ट्रोजन (Local estrogen) यह एक ऐप्लिकेटर के साथ योनि में डाली जानेवाली छोटी गोलियों के रूप में उपलब्ध होती है। योनि के छाले या योनि सूखापन स्थानीय एस्ट्रोजन के उपचारों से ठीक किया जा सकता है। वे सेक्स के दौरान असुविधा और दर्द के साथ बहुत मदद कर सकते हैं, और योनि पीएच सही कर सकते हैं। योनि के ख़राब बैक्टीरिया पर नियंत्रित करते है।
  • सुगंधित साबुन से बचें योनि के साफ करने के लिए केमिकल से भरपूर साबुन और लोशन का इस्तेमाल से योनि में सूखापन की शिकायत हो सकती है। योनि के सूखेपन से दूर रहने के लिए इनके इस्तेमाल से बचें।
  • त्वचा की जलन के इलाज के लिए वेजाइनल लुब्रिकेंट्स (Vaginal lubricants) क्रीम का उपयोग करें। वेजाइनल लुब्रिकेंट्स इंटीमेन्सी बढ़ाने में मदद करता है। वेजाइनल लुब्रिकेंट्स का उपयोग संभोग के समय योनि में नमी बढ़ाने और सेक्स के दौरान दर्द को कम करने के लिए किया जाता है। इसके लिए ऑयल आधारित (oil based) लुब्रीकेंट के बजाय वाटर यानि पानी आधारित (water based) लुब्रीकेंट का इस्तेमाल करने की सलाह देते हैं, क्योंकि ऑयल आधारित लुब्रीकेंट जलन और कंडोम के फटने का कारण बन सकते हैं। इसका उपयोग योनि में सूखेपन में सेक्स करने से ठीक पहले वैजिनल लुब्रिकेंट्स (vaginal lubricants) का इस्तेमाल डॉक्टर की सलाह से ही करें।
  • संभोग के दौरान साथी के साथ अधिक समय बिताये और अधिक समय लें। इससे संभोग से पहले योनिमें स्नेहन की अधिकतम मात्रा का उत्पादन करने के लिए योनि में रहनेवाले बार्थोलिन ग्रंथि (Bartholin gland) को समय दें इसका मतलब अपने साथी के साथ फोरप्ले को ज्यादा टाइम दे।
  • वेजाइनल मॉइस्चरीज़र (vaginal moisturizer) का उपयोग करे। वेजाइनल मॉइस्चरीज़र योनि की नमी को फिर से भरने में मदद करता है। योनि मॉइस्चराइजर नियमित रूप से और सेक्स से कम से कम 2 घंटे पहले लगाया जा सकता है। यह योनि में सूखापन के लक्षणों को तुरंत राहत प्रदान करता है और इसका असर 3 दिनों तक रहता है और इसका उपयोग डॉक्टर की सलाह से करना चाहिए।
loading image
 

क्या योनि के सूखने से बचा जा सकता है

How to prevent vagina atrophy in hindi

अपने आखिरी सवाल के रूप में कुसुम ने जानना चाहा, कि क्या समय पूर्व होने वाली योनि के सूखेपन से बचा जा सकता है? तब डॉ माला ने कहा कि जहां तक हो सके उन सभी कारणों से बचना चाहिए जिनसे योनि की चिकनाहट को बनाने वाले एस्ट्रोजेन हार्मोन में कमी आने की संभावना हो। इसके लिए योनि की सफाई के लिए सुगंधित साबुन, स्प्रे, परफ्यूम आदि के इस्तेमाल से बचें। स्वस्थ जीवन शैली जिएँ और निरंतर पानी पीते रहें। नियमित यौन गतिविधि महिला में समग्र योनि स्वास्थ्य को बढ़ावा देने में मदद कर सकती है। बढ़ा हुआ रक्त प्रवाह योनि के ऊतकों को स्वस्थ रखने में मदद कर सकता है।

loading image
 

निष्कर्ष

Conclusion in hindi

nishkarsh

डॉ माला और कुसुम की सारी बातें सुनकर अब तक चुप बैठी सुनीता ने हँसकर कुसुम से जानना चाहा, कि क्या उसे उसकी समस्या का हल मिल गया है? कुसुम ने डॉ माला और अपनी सहेली का धन्यवाद करते हुए कहा कि वह समझ गई है कि उसकी योनि में सूखापन प्रसव और उसके बाद शिशु को स्तनपान करवाने के कारण आई है। यह एक अस्थायी परेशानी है जो अच्छे खान पान और एक्टिव जीवन शैली से कुछ समय में ही ठीक हो जाएगी। इसके साथ ही वो सभी कारण जिनपर हम नियंत्रण कर सकते हैं जैसे धूम्रपान न करना, तनाव न लेना और स्वस्थ रहने से भी योनि के सूखेपन को टाला जा सकता है। योनि की शुष्कता तब तक कोई रोग नहीं है जब तक वह रजोनिवृत्ति पर न हो।
फिर भी इस परेशानी को कुछ घरेलू उपायों और दवाओं और चिकनाहट देने वाली क्रीम के प्रयोग से इस परेशानी को कम किया जा सकता है। इसके बाद सुनीता और डॉ माला नन्हें शिशु को आशीर्वाद देकर घर चली गईं।

क्या यह लेख सहायक था? हां कहने के लिए दिल पर क्लिक करें

आर्टिकल की आख़िरी अपडेट तिथि: : 30 Jun 2020

हमारे ब्लॉग के भीतर और अधिक अन्वेषण करें

लेटेस्ट

श्रेणियाँ

कंडोम मिथक: कंडोम का प्रयोग असुविधाजनक और कठिन होता है

कंडोम मिथक: कंडोम का प्रयोग असुविधाजनक और कठिन होता है

महिलाओं के लिए चरम सुख के फायदे

महिलाओं के लिए चरम सुख के फायदे

कंडोम मिथक: अधिक सुरक्षा के लिए मेल और फ़ीमेल कंडोम एक-साथ इस्तेमाल करने चाहिए

कंडोम मिथक: अधिक सुरक्षा के लिए मेल और फ़ीमेल कंडोम एक-साथ इस्तेमाल करने चाहिए

क्या हर महिला का हाइमन अलग-अलग दिखता है

क्या हर महिला का हाइमन अलग-अलग दिखता है

सामान्य योनि स्राव और असामान्य योनि स्राव में क्या अंतर है

सामान्य योनि स्राव और असामान्य योनि स्राव में क्या अंतर है
balance

सम्बंधित आर्टिकल्स

article lazy ad