क्या माहवारी में खून के थक्के आना सामान्य है?

Blood Clots During Periods in hindi

Periods mein blood ka thakka aana, period me blood clots aana, period me clotting hona


एक नज़र

  • माहवारी के दौरान खून के थक्के आना बहुत सामान्य हैं।
  • मासिक धर्म के थक्के आमतौर पर तब होते हैं जब प्रवाह भारी होता है।
  • कभी-कभी मासिक धर्म के रक्त में थक्के किसी खास स्वास्थ्य स्थिति का संकेत हो सकते हैं।
  • जाने क्या गर्भाशय में खून का थक्का आना सामान्य है?
triangle

Introduction

Blood_clotting_during_periods_in_hindi

अक्सर महिलाओं के मन में यह सवाल जरूर आता होगा कि क्या माहवारी में खून के थक्के आना सामान्य है?, पीरियड्स में खून के थक्के आना के क्या कारण होते हैं और मासिक धर्म में खून के थक्के का इलाज क्या है?

कई महिलाएं जब अपने मासिक धर्म में थक्के का आना (blood clots during periods) नोटिस करती हैं, तो चिंता में पड़ जाती हैं!

यहाँ यह जानना आपके लिए जरूरी है कि यह पूरी तरह से सामान्य है और ज़्यादातर मामलों में चिंता का कारण नहीं होता है।

मासिक धर्म में थक्के रक्त कोशिकाओं, गर्भाशय के अस्तर के टिशू (endometrial tissue), और रक्त में शामिल प्रोटीन [1]- इन तीन चीजों का मिश्रण होते हैं।

यदि आप अपने मासिक धर्म में थक्के का आना के बारे में चिंतित हैं तो आप डॉक्टर की सलाह ले सकती हैं। आइये जानते हैं मासिक धर्म में थक्के का आने का कारण, निदान और उपचार कैसे किया जाता है।

loading image

इस लेख़ में

 

माहवारी में रक्त के थक्के आने का मतलब क्या है?

What does Clotting during Periods Or Menstrual Clotting Meansin hindi

period me clotting hona ka kya matlab hota hai

ज्यादातर मामलों में, माहवारी के दौरान रक्त के छोटे थक्के आना स्वाभाविक है मगर इसका मतलब यह नहीं होता कि आपको कोई गंभीर समस्या है।

हाँ, लेकिन कभी-कभी माहवारी में खून के बड़े थक्के किसी खास स्वास्थ्य स्थिति का संकेत हो सकते हैं।

हर महिला अपने मासिक चक्र में हर 28 से 35 दिन के बीच माहवारी से गुजरती है। इस दौरान गर्भाशय का अस्तर जिसे एंडोमेट्रियल लर्निंग (endometrial lining) कहते है, टूट कर मासिक धर्म के साथ बाहर निकलती है। [2]

महिला का शरीर हर महीने गर्भावस्था के लिए खुद को तैयार करता है और इस दौरान गर्भाशय की अंदरूनी परत इम्प्लानटेशन (implantation) में मदद करने के लिए मोटी होने लगती है।

लेकिन जब अंडा फर्टिलाइज नहीं हो पाता है, तो यह लाइनिंग टूटने लगती है, जो माहवारी के रूप में महिला के शरीर से बाहर आने लगती है।

खून और टिश्यू के मिश्रण वाला यह स्त्राव गर्भाशय से होता हुआ सर्विक्स (cervix) के मुख से बाहर आता है। माहवारी में आने वाले खून के थक्के एंडोमेट्रियल लाइनिंग से बने हुए होते हैं।

अगर खून के थक्के बहुत छोटे हैं और माहवारी के दौरान कभी-कभी आते हैं, तो इनसे घबराने की कोई बात नहीं है। यह एक सामान्य प्रक्रिया है।

माहवारी के दौरान सामान्य रक्त के थक्के कैसे होते हैं?

  • रक्त के थक्के बहुत छोटे होते हैं
  • रक्त के थक्के हल्के लाल और गहरे लाल रंग के होते हैं
  • माहवारी के दौरान रक्त के थक्के कभी-कभी ही आते हैं, खासकर मासिक धर्म के शुरुआती दिनों में

अगर माहवारी के दौरान खून के थक्के बहुत बड़े है या गहरे काले रंग के हैं और हर माहवारी में आते हैं तो यह किसी बड़ी समस्या का संकेत हो सकते हैं। ऐसे किसी स्थिति में आप आपने डॉक्टर से जल्द से जल्द मिल कर सलाह लें।

थक्के रंग में गहरे चमकदार लाल रंग के हो सकते हैं। आकार में बड़े थक्के काले दिख सकते हैं।

मासिक धर्म का रक्त प्रत्येक माहवारी के अंत में गहरा और अधिक भूरा दिखाई देने लगता है क्योंकि तब तक रक्त अधिक पुराना होता है और शुरुआती दिनों के मुक़ाबले शरीर से धीमी गति में निकलता है।

अगर आप प्रेग्नेंट हैं और आपकी योनि से खून आ रहा है या हल्की ब्लीडिंग के साथ रक्त के थक्के दिखाई दे रहें है तो आपको जल्द से जल्द आपने डॉक्टर से मिलना चाहिए। यह गर्भपात (miscarriage) का संकेत हो सकता है। [3]

और पढ़ें:अजवायन से पाएं पीरियड्स के दर्द से छुटकारा
 

माहवारी के रक्त में थक्के होने का कारण

Causes Of Menstrual Clots in hindi

period me clotting hona ke karan

जैसा की ऊपर बताया गया है, प्रेग्नेंट न होने की स्थिति में गर्भाशय की अंदरूनी परत टूट कर गर्भाशय के नीचे इकट्ठा हो जाती है।

इस दौरान गर्भाशय की टूटी परत को पतला बनाने के लिए महिला का शरीर एंटीकोऐगुलेंट (anticoagulant) बनाने लगता है।

कभी-कभी शरीर पर्याप्त मात्र में यह एंटीकोऐगुलेंट नहीं बना पाता, इस स्थिति में माहवारी के समय खून के थक्के आ सकते हैं। मासिक धर्म के शुरुआती दिनों में खून के थक्के आना आम है।

आपकी उम्र और आपके मेडिकल इतिहास के आधार पर, कई ऐसे शारीरिक और हार्मोनल कारक हैं, जो आपके मासिक धर्म के दौरान थक्कों का कारण बन सकते हैं।

माहवारी में थक्के आने के कारण निम्न हो सकते हैं : -

गर्भाशय फाइब्रॉएड (Uterine fibroid) [4]

गर्भाशय फाइब्रॉएड या गर्भाशय की रसौली गर्भाशय में असामान्य वृद्धि है और बहुत आम है। यह गर्भाशय की कैंसर रहित ग्रोथ (growth) है। यह माहवारी के समय अत्यधिक ब्लीडिंग का कारण हो सकती है।

गर्भाशय की रसौली होने के कारण गर्भाशय पूरी तरह से संकुचित नहीं हो पाता और यूटरस में मौजूद खून पूरी तरह से बाहर नहीं आ पाता।

इस स्थिति मे रक्त गर्भाशय में जमने लगता है और रक्त के थक्कों के रूप में योनि के मुख से बाहर आने लगता है।

माहवारी के समय अत्यधिक रक्त स्त्राव के अलावा यूटराइन फाइब्रॉएड के लक्षण हैं : -

  • अनियमित माहवारी
  • पीठ के निचले हिस्से में दर्द
  • प्रजनन संबंधी समस्याएँ

एंडोमेट्रियोसिस (Endometriosis)

एक ऐसी स्थिति जिसमें आपके गर्भाशय की लाइनिंग में मौजूद एंडोमेट्रियल टिशू (endometrial tissue) आपके गर्भाशय के बाहर बढ़ता है। यह आमतौर पर आपके फैलोपियन ट्यूब (fallopian tubes) और ओवरीज़ में बढ़ता है। [5]

एंडोमेट्रियोसिस के कई लक्षण हैं, जिसमें माहवारी के दौरान खून के थक्के आना भी एक है।

एंडोमेट्रियोसिस के अन्य लक्षण निम्न हैं : -

  • माहवारी के दौरान अत्यधिक दर्द
  • माहवारी के समय जी मचलना, उलटी आना या पेट ख़राब होना
  • सेक्स के दौरान दर्द होना
  • प्रजनन संबंधी समस्याएँ जैसे - इनफर्टिलिटी

एडेनोमायोसिस (Adenomyosis) [6]

एक ऐसी स्थिति जिसमें आपके गर्भाशय की लाइनिंग में मौजूद एंडोमेट्रियल टिशू टूट जाता है और आपकी गर्भाशय की दीवार में बढ़ने लगता है।

इस कारण यूटराइन लाईनिंग काफी मोटी हो जाती है जिससे माहवारी के समय बहुत ब्लीडिंग होती है और खून के थक्के बनने की संभावना बढ़ जाती है।

हॉर्मोन असंतुलन (Hormonal Imbalance)

शरीर में हॉर्मोन का सक्रिय होना, माहवारी को नियमित बनाये रखने के लिए आवश्यक है।

अगर किसी कारणवश हॉर्मोन की सक्रियता कम या ज्यादा हो जाती है, तो माहवारी के समय परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है।

कुछ स्थितियां जैसे, पॉलीसिस्टिक अंडाशय सिंड्रोम (polycystic ovary syndrome), पेरिमेनोपॉज (perimenopause) और रजोनिवृत्ति सहित हार्मोनल असंतुलन के कारण आपके मासिक धर्म चक्र अनियमित हो सकते हैं, जिसके परिणामस्वरूप गर्भाशय की परत से भारी रक्तस्राव और क्लॉटिंग हो सकती है।

प्रेग्नेंसी की शुरुआती दौर में होने वाला गर्भपात (Miscarriage)

गर्भावस्था के शुरुआती दिनों में अगर किसी कारणवश गर्भ नहीं ठहर पाता यानि गर्भपात हो जाता है तो ऐसी स्थिति में भी खून के थक्के आ सकते हैं।

अगर आप गर्भवती हैं और आपको लाइट ब्लीडिंग या स्पॉटिंग हो रही है तो जल्द से जल्द अपने डॉक्टर से संपर्क करें।

कई बार महिलायें, गर्भावस्था के शुरुआती चरण में अपने गर्भवती होने से बिलकुल अंजान होती हैं, क्योंकि इस समय गर्भावस्था के कोई लक्षण दिखाई नहीं देते। इससे पहले कि आप जान पाएँ कि आप गर्भवती हैं, खून और थक्के योनि से बाहर निकल जाते हैं।

आपके गर्भाशय या गर्भाशय ग्रीवा में कैंसर

हालांकि, गर्भाशय (uterus) या गर्भाशय ग्रीवा (cervix) के कैंसर होने की संभावना बहुत कम होती है। लेकिन इस स्थिति में भी खून के थक्के आ सकते हैं, क्योंकि कैंसर के कारण शरीर उचित प्रोटीन नहीं बना पाता।

जो महिलाएं बहुत भारी मासिक धर्म का अनुभव कर रही हैं या उनके मासिक धर्म के रक्त में एक चौथाई से बड़े आकार के थक्के हैं, उन्हें डॉक्टर को दिखाना चाहिए, खासकर यदि उन्हें उपरोक्त स्थितियों में से कोई भी लक्षण महसूस हों।

loading image
 

माहवारी के रक्त में थक्कों का उपचार और निदान

Diagnosis and Treatment of Menstrual clots in hindi

Periods mein aane wale clots ka diagnosis aur upchar, period me clotting hona ka upchar

असामान्य मासिक धर्म में थक्कों का उपचार करने के लिए, डॉक्टर शरीर की जांच के अलावा लक्षणों के बारे में जानना चाहेंगे और साथ ही, रक्त या इमेजिंग परीक्षणों जैसे अल्ट्रासाउंड या एमआरआई (MRI) का आदेश दे सकते हैं।

ऐसी स्थिति में, यदि उन्हें लगता है कि किसी को बहुत अधिक रक्त की कमी हो रही है या एनीमिया (anemia) का खतरा हो सकता है तो वे आयरन सप्लीमेंट लेने की सलाह दे सकते हैं।

यदि आपको भी माहवारी के दौरान थक्कों की तकलीफ़ हो तो डॉक्टर की सलाह के साथ-साथ, आप नीचे दिये गए उपायों को भी अपनाएं!

माहवारी में रक्त के थक्के आने की स्थिति में अपनाएं ये उपाय :

  • प्रचूर मात्रा में पाने पिएं और खुद को हाइड्रेट रखें।
  • एस्पिरिन (aspirin) से परहेज करें, इससे रक्तस्राव बदतर हो सकता है।
  • सेहतमंद आहार खाएं जिसमें आयरन युक्त खाद्य पदार्थ शामिल हों जैसे - हरी पत्तेदार सब्जियां
  • शारीरिक गतिविधि नियमित रखें।
और पढ़ें:अनियमित माहवारी का इलाज
 

माहवारी में खून के थक्के आने का इलाज

Treatment Of Menstrual Clots in hindi

Mahwari mein khoon ke thakke aane ka ilaj in hindi, period me clotting hona ka ilaj

माहवारी के दौरान खून के थक्के आने का कारण जानने के बाद इसके लिए डॉक्टर सही उपचार चुनते हैं।

इस दौरान हार्मोन को संतुलित करने और भारी रक्तस्राव को नियंत्रित करने में मदद करने के लिए डॉक्टर हार्मोनल दवाएं (hormonal medication) लिख सकते हैं।

इसके अलावा डॉक्टर आपको जन्म नियंत्रण विधि (hormonal contraceptive) का उपयोग करने या बदलने का सुझाव दे सकते हैं।

रिसर्च में पाया गया है कि प्रोजेस्टिन युक्त अंतर्गर्भाशयी डिवाइस (Intrauterine devices containing progestin) रक्त के प्रवाह को 90 प्रतिशत तक कम कर सकती है, डॉक्टर आपको ईयूडी (IUD) लगाने के भी सलाह दे सकते हैं। [7]

इन उपायों के अलावा डॉक्टर माहवारी की अन्य समस्याओं जैसे - ऐंठन, दर्द, और बेचैनी जैसे लक्षणों को कम करने के लिए इस अवधि के दौरान नॉनस्टेरॉइडल एंटी-इंफ्लेमेटरी ड्रग्स (nonsteroidal anti-inflammatory drugs) लेने की सलाह दे सकते हैं।

जो महिलाएं हार्मोन उपचार का उपयोग नहीं करना पसंद करती, वे ऐसी दवाएं ले सकती हैं, जो रक्त के थक्के को नियंत्रित करती हैं। इस बारे में किसी डॉक्टर से बात करना सबसे अच्छा है।

loading image
 

माहवारी में रक्त में थक्के होने पर डॉक्टर से कब मिलें?

When to See the Doctor For Blood Clotting During Periodsin hindi

Mahwari mein rakt mein thakke hone par doctor se kab mile in hindi, periods bleeding clots in hindi, period me clotting hona pr doctor se kb mile

माहवारी के दौरान खून के थक्के जमना वैसे तो सामान्य बात है लेकिन कुछ कारणों में यह बड़ी और गंभीर बीमारी का संकेत हो सकता है।

निम्नलिखित स्थितियों में आपको आपने डॉक्टर से जल्द से जल्द मिलना चाहिए : -

  • अगर पीरियड्स के समय अत्यधिक ब्लीडिंग हो रही है और आपको हर कुछ घंटो में पैड्स या टेम्पोंस बदलने की आवश्यकता हो रही है।
  • यदि माहवारी सात दिन से अधिक समय तक रहती है। [8]
  • अगर माहवारी के दौरान खून के बड़े थक्के आ रहे हैं।
  • अगर आपको माहवारी के समय जी मचलना , उलटी या पेट में दर्द की शिकायत रहती है।
  • अगर आप गर्भवती है और ब्लीडिंग या लाइट स्पॉटिंग हो रही है।
और पढ़ें:अनियमित माहवारी या अनियमित पीरियड
 

पीरियड्स में ब्लड का थक्का आना से आराम के कुछ टिप्स

Tips to Manage Blood Clotting During Periodsin hindi

Periods mein blood clot aane ke kuch tips in hindi, period me blood ka thakka aana ke tips, period me clotting hona ke tips

माहवारी के दौरान भारी रक्त स्त्राव न सिर्फ आपकी रोजमर्रा की दिनचर्या को प्रभावित करता है बल्कि पीरियड्स के दौरान हो रहा दर्द आपके मनोबल को भी प्रभावित कर सकता है।

इन दिनों में निम्नलिखित टिप्स आपके काम आ सकते हैं : -

  • खुद को हाईडरेटेड रखें और समय समय पर पानी पीते रहें
  • इस दौरान दर्द को कम करने के लिए फार्मेसी पर मिलने वाली दर्द निवारक दवाइयों जैसे, ऑयबुप्रोफिन या अडविल का इस्तेमाल कर सकते हैं
  • इस दौरान एस्पिरिन का इस्तेमाल न करें, क्योंकि इससे रक्त प्रवाह बढ़ सकता है
  • अत्यधिक रक्त स्त्राव से शरीर में खून की कमी और शारीरिक थकान हो सकती है, इससे बचने के लिए फल और सब्जियों से भरपूर पोष्टिक आहार लें, हरी पत्तेदार सब्जियां खाने में शामिल करें
और पढ़ें:इन 6 टिप्स से जानें पीरियड साइकिल नियमित है या नहीं
 

निष्कर्ष

Conclusionin hindi

Nishkarsh of period me blood ka thakka aana

मासिक धर्म में खून के थक्के का आना सामान्य हैं और आमतौर पर भारी मासिक धर्म प्रवाह का एक लक्षण है।

हालांकि, यदि आप भारी प्रवाह या पीरियड्स में ब्लड के थक्के के साथ अन्य लक्षणों का एक पैटर्न नोटिस करती हैं, तो आपको डॉक्टर को दिखाना चाहिए।

डॉक्टर संभावित कारणों को खोजने और बड़े मासिक धर्म में थक्के को नियंत्रित करने में मदद कर सकते हैं।

क्या यह लेख सहायक था? हां कहने के लिए दिल पर क्लिक करें

references

संदर्भ की सूचीछिपाएँ

1 .

Heyi Yang, Bo Zhou, et al. "Proteomic Analysis of Menstrual Blood". Mol Cell Proteomics. 2012 Oct; 11(10): 1024–1035. Published online 2012 Jul 20, PMID: 22822186.

2 .

Mayoclinic. “Menstrual cycle: What's normal, what's not”. Mayoclinic, 13 June 2019.

3 .

AmericanPregnancyAssociation. "Miscarriage: Signs, Symptoms, Treatment, and Prevention". AmericanPregnancyAssociation,10 October 2019.

4 .

Harvard Health Publishing. “Ask the doctor: Heavy bleeding, fibroids, and polyps". Harvard Health Publishing,14 May 2019.

5 .

The American College of obstetricians and gynecologists. "Heavy Menstrual Bleeding".The American College of obstetricians and gynecologists”, June 2016.

6 .

Mayoclinic. “Menstrual cycle: What's normal, what's not”. Mayoclinic, 13 June 2019

7 .

Mayoclinic. “Hormonal IUD (Mirena)”. Mayoclinic, 26 Feb 2020.

8 .

Centers for Disease Control and Prevention. “Heavy Menstrual Bleeding”. Centers for Disease Control and Prevention, 20 December 2017.

आर्टिकल की आख़िरी अपडेट तिथि: : 10 Jun 2020

हमारे ब्लॉग के भीतर और अधिक अन्वेषण करें

लेटेस्ट

श्रेणियाँ

पीरियड्स में हेवी ब्लीडिंग या मासिक धर्म का अधिक दिनों तक आना

पीरियड्स में हेवी ब्लीडिंग या मासिक धर्म का अधिक दिनों तक आना

अनियमित पीरियड्स के लिए गुलाब की चाय के फायदे

अनियमित पीरियड्स के लिए गुलाब की चाय के फायदे

अनियमित माहवारी या अनियमित पीरियड

अनियमित माहवारी या अनियमित पीरियड

डिसमेनोरिया क्या है

डिसमेनोरिया क्या है

इन 6 टिप्स से जानें पीरियड साइकिल नियमित है या नहीं

इन 6 टिप्स से जानें पीरियड साइकिल नियमित है या नहीं
balance

सम्बंधित आर्टिकल्स

article lazy ad