पहली बार सेक्स और रक्तस्राव? भ्रम और तथ्य

Bleeding in First time sex? Myths and Facts in hindi

Pehli bar sex aur bleeding ke myths and facts in hindi


एक नज़र

  • पहली बार सेक्स करने पर रक्त्स्त्राव सामान्य घटना है।
  • हाइमन के फटने का पहली बार के सेक्स से संबंध नहीं है।
  • कौमार्य (Virginity) किसी प्रकार के रक्त्स्त्राव से निर्धारित नहीं होता है।
  • जाने क्या पहली बार सेक्सके दौरान ब्लीडिंग जरूरी है क्या ?
triangle

Introduction

जाने_क्या_पहली_बार_सेक्सके_दौरान_ब्लीडिंग_जरूरी_है_क्या____सच_और_मिथ्स

किशोर अवस्था से यौवन में प्रवेश करने वाला हर युवक और युवती अपने मन में सेक्स से जुड़े अनेकों सवाल लिए रहते हैं।

इन सवालों में सबसे बड़ा सवाल पहली बार किए जाने वाले सेक्स और उसमें होने वाले रक्त्स्त्राव से संबन्धित होते हैं।

सेक्स शिक्षा का सही ज्ञान न होने के कारण पहली बार शारीरिक संबंध स्थापित होने पर योनि से होने वाले रक्त्स्त्राव को अनिवार्य घटना मानते हुए उसे लड़कियों के कौमार्य से जोड़ लेते हैं।

जबकि वास्तविकता में यह एक भ्रम है।

इस लेख में पहली बार सेक्स और रक्तस्राव? भ्रम और तथ्य पर ही विचार करने का प्रयास किया गया है।

loading image

इस लेख़ में

 

भ्रम 1: पहली बार के शारीरिक संबंध में रक्तस्त्राव केवल हाइमन के कारण होता है

In the first physical connection, bleeding is caused by hymen onlyin hindi

Pehli baar bleeding keval hymen ke karan hoti hai in hindi

युवक और युवती चाहे किसी भी देश और संस्कृति से संबंध रखते हों, साधारण रूप से यही सोचते हैं, कि जब पहली बार शारीरिक संबंध स्थापित किया जाता है तब महिला की योनि से रक्त का बहना केवल हाइमन के कारण ही होता है ।

जबकि इस प्रश्न का जवाब सेक्स के दौरान क्यों होती है ब्लीडिंग, वैज्ञानिक और चिकित्सकीय के तथ्य इस प्रकार है:-

सत्य :

पहली बार के शारीरिक संबंध में रक्त्स्त्राव होने के कारण निम्न हो सकते हैं :-

  • जबर्दस्ती स्थापित किए गए शारीरिक संबंध के कारण योनि में चोट लगने से रक्त्स्त्राव का होना;
  • सेक्स के दौरान माहवारी की शुरुआत होने पर भी रक्त्स्त्राव हो सकता है;
  • पहली बार बनाए जा रहे शारीरिक संबंध में सेक्स की पोजीशन इस प्रकार हो जिसमें गर्भाशय को चोट लगी हो, जिसके कारण रक्त्स्त्राव हो गया हो;
  • अगर शारीरिक संबंध बनाते समय महिला के जननांगों में किसी प्रकार का इन्फेक्शन हो तब भी सेक्स के दौरान रक्त स्त्राव हो सकता है;

दूसरे शब्दों में कहा जाये तो किसी भी समाज में पहली बार संभोग से जुड़ी भ्रांतियां वास्तविकता को अनदेखा कर देती है।

इस भ्रम की वास्तविकता यह है कि पहली बार के शारीरिक संबंध में रक्त्स्त्राव केवल हाइमन के फटने के कारण ही नहीं हो सकता है बल्कि इसके कारण विभिन्न भी हो सकते हैं।

loading image
 

भ्रम 2: पहली बार के शारीरिक संबंध में रक्तस्त्राव होना अनिवार्य है

It is mandatory to have bleeding in the first physical connectionin hindi

Pehli baar sex karne par bleeding hamesha hoti hai in hindi

जो लोग यह मानते हैं कि अगर पहली बार शारीरक संबंध स्थापित करने में रक्त्स्त्राव नहीं हुआ तब इसका अर्थ है कि महिला का कौमार्य भंग हो चुका है तो यह उनका भ्रम मात्र है।

इस मान्यता को मानने वाले लोग महिला के कौमार्य को पहले सेक्स में होने वाले रक्त्स्त्राव से जोड़कर देखते हैं। जबकि सत्यता इससे पूरी तरह भिन्न होती है।

सत्य :

पहली बार के शारीरिक संबंध बनाने पर यदि रक्त्स्त्राव नहीं होता है, तब इसके कारण निम्न हो सकते हैं:-

  • महिला का हाइमन घुड़सवारी, तैराकी, एथलीट खेलों में या फिर किसी भी ऐसे काम में जिसमें शरीर के निचले हिस्से पर ज़ोर पड़े, फट सकता है।
  • शारीरिक संबंध बनाते समय महिला पूरी तरह से उत्तेजित न हुई हो और उसका हाइमन पूरी तरह न हट पाया हो;
  • महिला द्वारा माहवारी के समय योनि में टैंपून (Taimpun) लगाने से हाइमन पहले ही हट चुका हो;
  • इस प्रकार जो लोग यह सोचते हैं कि यदि महिला का हाइमन पहले ही हट चुका है, इसका अर्थ है कि वह वर्जिन (Virgin) नहीं है, सर्वथा गलत है।
    इसे केवल उनका सेक्स और कौमार्य संबंधी भ्रम ही माना जा सकता है।
और पढ़ें:अजवाइन, प्याज़ एवं लहसुन बढ़ाते है यौन इच्छा
 

निष्कर्ष

Conclusion in hindi

युवक-युवती द्वारा पहली बार बनाए जाने वाले शारीरिक संबंध दोनों के लिए अनोखे और सुखकारी अनुभव होते हैं।

इस अनुभव को निरर्थक भ्रम व भ्रांतियों के कारण आनंद के स्थान पर कष्ट का कारण नहीं बनाना चाहिए ।

पहली बार बनाए जाने वाले शारीरिक संबंध में रक्त्स्त्राव होना एक सामान्य घटना है लेकिन अनिवार्य नहीं है।

अगर इस समय रक्त्स्त्राव नहीं होता है तब इसका संबंध युवती के चरित्र से नहीं लगाना चाहिए ।

यदि पहली बार सेक्स करते समय रक्त्स्त्राव अत्यधिक हो तब चिकित्सक की राय जरूर लेनी चाहिए।

loading image

क्या यह लेख सहायक था? हां कहने के लिए दिल पर क्लिक करें

आर्टिकल की आख़िरी अपडेट तिथि: : 04 May 2020

हमारे ब्लॉग के भीतर और अधिक अन्वेषण करें

लेटेस्ट

श्रेणियाँ

कंडोम मिथक: कंडोम का प्रयोग असुविधाजनक और कठिन होता है

कंडोम मिथक: कंडोम का प्रयोग असुविधाजनक और कठिन होता है

महिलाओं के लिए चरम सुख के फायदे

महिलाओं के लिए चरम सुख के फायदे

कंडोम मिथक: अधिक सुरक्षा के लिए मेल और फ़ीमेल कंडोम एक-साथ इस्तेमाल करने चाहिए

कंडोम मिथक: अधिक सुरक्षा के लिए मेल और फ़ीमेल कंडोम एक-साथ इस्तेमाल करने चाहिए

क्या हर महिला का हाइमन अलग-अलग दिखता है

क्या हर महिला का हाइमन अलग-अलग दिखता है

सामान्य योनि स्राव और असामान्य योनि स्राव में क्या अंतर है

सामान्य योनि स्राव और असामान्य योनि स्राव में क्या अंतर है
balance

सम्बंधित आर्टिकल्स

article lazy ad