बादाम तेल के फ़ायदे, उपयोग और नुकसान

Benefits, uses and side-effects of almond oil in hindi

Badam tel ke laabh, haani aur upyog in hindi


एक नज़र

  • बादाम का तेल आपके स्वास्थ्यवर्धक गुणों से भरपूर तेल है।
  • हृदय रोगों के अलावा यह डायबिटीज़ और वज़न कम करने में भी सहायक है।
  • त्वचा और बालों के लिए यह बेहद गुणकारी और पोषक है।
  • इस तेल का उपयोग सीमित मात्रा में ही करना चाहिए क्योंकि इसके कुछ साइड-इफफ़ेक्ट्स भी हो सकते हैं।
triangle

Introduction

Benefits__Uses_And_Side_Effects_Of_Almond_Oil___Zealthy

बादाम अविश्वसनीय रूप से पौष्टिक और स्वास्थ्यवर्धक गुणों से लबरेज़ होते हैं।

किसी भी डिश में बादाम मिला देने से तुरंत उसका स्वाद और सुंदरता बढ़ जाती है।

हाल ही में, बादाम का तेल भी काफी लोकप्रिय हो रहा है।

यह दवाओं और कॉस्मेटिक उत्पादों में इस्तेमाल किया जाने लगा है।

जहां बादाम के तेल में मौजूद विटामिन ई एंटीऑक्सिडेंट (antioxidant) के लाभ प्रदान करता है, वहीं अनसेचूरेटेड फैटी एसिड हृदय के स्वास्थ्य को बढ़ावा देता है।

ऐसे और भी तरीके हैं जिनसे यह तेल आपके स्वास्थ्य को बढ़ा सकता है, आइये इस लेख के माध्यम से जानते हैं।

loading image

इस लेख़ में

 

बादाम के तेल के स्वास्थ्य लाभ क्या हैं

What are the health benefits of almond oil in hindi

Badam tel health ke liye kaise labhdayak hai in hindi

बादाम के तेल पर भारी शोध किया जाता है। यह तेल अच्छे कोलेस्ट्रॉल के स्तर को बढ़ाता है और दिल की रक्षा करता है।

यह त्वचा पर अद्भुत काम करता है - रंग में सुधार और निशान को कम करने में मदद करता है।

बादाम के अन्य स्वास्थ्य लाभ इस प्रकार हैं :

  1. दिल की रक्षा करे (Protects heart)
    अन्सेचूरेटेड फैटी एसिड (unsaturated fatty acids) और विटामिन-ई तेल के सबसे महत्वपूर्ण पोषक तत्व हैं।
    स्वस्थ वसा हृदय स्वास्थ्य को बढ़ावा देती है और मधुमेह के उपचार में सहायता करती है।
    बादाम तेल में मोनोअनसैचुरेटेड वसा (monounsaturated fats), एलडीएल कोलेस्ट्रॉल (LDL cholesterol) को कम और एचडीएल कोलेस्ट्रॉल (HDL cholesterol) को बढ़ाते हैं।
    एलडीएल कॉलेस्ट्रोल दिल की सेहत के लिए नुक़सानदेह है।
    वहीं एचडीएल कॉलेस्ट्रोल दिल की सेहत का ख़्याल रखते हैं और हार्ट अटैक के जोखिम को कम करते हैं।
    मोनोअनसैचुरेटेड फैटी एसिड रक्तचाप के स्तर को भी कम करता है – खासकर अधिक वजन वाले व्यक्तियों में।
    बादाम के तेल में मोनो और पॉलीअनसेचुरेटेड फैटी एसिड का एक संयोजन होता है।
    ये दोनों हृदय स्वास्थ्य में बहुत योगदान करते हैं।
    साथ ही, मोनोअनसैचुरेटेड फैटी एसिड धमनी की दीवारों (arterial walls) के सख्त होने की स्थिति को रोककर हृदय की रक्षा करते हैं।
  2. वजन कम करने में है मददगार (Helps in weight loss)
    मोनोअनसैचुरेटेड वसा से समृद्ध आहार वजन घटाने में मदद करता है।
    यह मोटे व्यक्तियों की लिपिड प्रोफाइल (lipid profile) में सुधार कर सकता है।
    ये वसा, ऊर्जा को संतुलित रखकर वजन को भी संतुलित बनाए रखने में मदद करता है।
    हालांकि, बादाम के तेल में बादाम जैसे फाइबर नहीं होते हैं।
    इसलिए, आप तेल के साथ संतुलित आहार ले सकते हैं और वजन घटाने के लिए व्यायाम कर सकते हैं।
    जीवनशैली बेहतर होने से आपको वजन कम करने में मदद मिलेगी।
  3. रेक्टल एंड डाइजेस्टिव हेल्थ को बढ़ावा देता है (Promotes rectal and digestive health)
    बादाम का तेल पाचन स्वास्थ्य को बढ़ाने में काफी मदद करता है।
    एक अध्ययन में पाया गया है कि बादाम का तेल मल त्याग में भी सुधार करता है।
    यह अंततः इर्रिटेबल बॉवेल सिंड्रोम (irritable bowel syndrome) के लक्षणों को कम करता है।
    बादाम के तेल में मौजूद फैटी एसिड मानव आंत के बैक्टीरिया (human gut bacteria) के स्वास्थ्य को बढ़ावा देता है।
  4. डायबिटीज का इलाज (Treats diabetes)
    एक अध्ययन में, बादाम तेल के साथ नाश्ता करने वालों में रक्त शर्करा का स्तर कम पाया गया।
    बादाम का तेल पोस्टपेडियल रक्त शर्करा (postprandial blood glucose) के स्तर को कम रखने में बादाम से बेहतर काम करता है।
  5. कान के संक्रमण का इलाज (Treats ear infection)
    बादाम का तेल इयरवैक्स (earwax) को हटाने में मददगार है।
    कान में गर्म बादाम का तेल डालने से इयरवैक्स नरम हो सकता है, जिससे इसे निकालना आसान हो जाता है।
    इसके साथ कान में होने वाले किसी तरह के संक्रमण को रोकने में भी सहायक है।
  6. अरोमाथेरेपी में उपयोगी (Useful in aromatherapy)
    अरोमाथेरेपी में बादाम के तेल का उपयोग आपको सुखद परिणाम दे सकता है।
    एक अध्ययन में, 27 पुरुषों और महिलाओं ने दिन में दो बार बादाम का तेल पीया।
    इन्होंने अपनी नींद की गुणवत्ता और थकान के स्तर में महत्वपूर्ण सुधार दिखाया।
    इन लोगों में राइनोकोञ्जुंक्टिविटीस (rhinoconjunctivitis) के लक्षणों जैसे कि नाक जाम, छींक, लाल आँखें और बहती नाक, में भी कमी दिखाई पड़ी।
  7. त्वचा के स्वास्थ्य को बढ़ावा देता है (Promotes healthy skin)
    यह तेल विटामिन-ई से भरा होता है जो आपकी त्वचा पर अद्भुत काम करता है।
    यह मुँहासे का इलाज कर सकता है और सूजन को कम कर सकता है।
    यह मुँहासे पैदा करने वाले बैक्टीरिया के कारण होने वाले लिपिड पेरोक्सीडेशन (lipid peroxidation) को रोककर मुँहासे का इलाज करता है।
    बादाम का तेल त्वचा को फिर से जीवंत कर सकता है और आपके रंग में सुधार कर सकता है।
    बादाम का तेल सभी प्रकार की त्वचा के लिए काम करता है - यह त्वचा को नरम बनाता है और रिपेयर भी करता है।
    कुछ शोध यह भी बताते हैं कि बादाम का तेल सोरायसिस और एक्जिमा के लक्षणों को कम करने में मदद कर सकता है।
    यह तेल के मॉइस्चराइजिंग गुणों के कारण हो सकता है।
    बादाम के तेल में विटामिन-ई भी आँखों के नीचे वाले काले घेरे को कम कर सकता है।
    अपने चेहरे को साफ करें और अपनी आंखों के नीचे थोड़ी मात्रा में बादाम के तेल से मालिश करें।
    यह मालिश ब्लड सरकुलेशन को बढ़ाती है।
    नियमित रूप से इसका पालन करने से आपकी त्वचा निखरती है।
  8. बाल और स्कैल्प के स्वास्थ्य में सुधार करता है (Improves hair and scalp health)
    कई लोगों ने बालों और खोपड़ी के स्वास्थ्य को बढ़ाने में बादाम के तेल को प्रभावकारी पाया है।
    बालों पर बादाम के तेल का उपयोग करने से ये नरम और मुलायम होते हैं।
    आपको अपने बालों में कंघी करने और स्टाइल करने में भी आसानी होती है।
    इस तेल में विटामिन-ई होता है।
    यह पोषक तत्व तनाव को कम कर सकता है और बालों के विकास को बढ़ावा दे सकता है।
    तेल के संभावित मॉइस्चराइजिंग गुण सूखे स्कैल्प और रूसी का भी इलाज कर सकते हैं।
    बादाम का तेल, बालों से जुड़ी कई तरह की समस्याओं से छुटकारा दिलाने वाला कारगर तेल है।
loading image
 

बादाम तेल के साइड इफेक्ट्स क्या हैं

What are the side-effects of almond oil in hindi

Almond oil use karne se kya nuksan hain in hindi

बादाम तेल के साइड इफेक्ट्स इस प्रकार हैं :

  1. गर्भवती महिलाओं में प्रसव पूर्व हो सकता है (Can cause preterm pregnancy)
    अध्ययनों से पता चलता है कि बादाम के तेल के उपयोग से गर्भवती महिलाओं का प्रसव समय से पहले हो सकता है।
    इसलिए, तेल का उपयोग करने से पहले अपने चिकित्सक से परामर्श लें।
  2. ब्लड ग्लूकोज लेवल बहुत कम हो सकता है (Can lower blood glucose)
    चूंकि बादाम का तेल ब्लड शुगर के स्तर को कम कर सकता है, इसलिए सावधानी बरतें, खासकर, यदि आप पहले से ही मधुमेह के स्तर को कम करने के लिए दवाएं ले रहे हैं।
  3. एलर्जी हो सकती है (Can cause allergy)
    बादाम का तेल अखरोट से एलर्जी वाले लोगों में प्रतिक्रियाओं को ट्रिगर कर सकता है।
    यदि आपको अखरोट से एलर्जी है, तो कृपया बादाम के उपयोग से बचें।
  4. दवाओं का पारस्परिक प्रभाव (May interfere with certain medications)
    बादाम का तेल त्वचा द्वारा कुछ दवाओं को कैसे अवशोषित किए जाने की प्रक्रिया में हस्तक्षेप कर सकता है।
    इनमें प्रोजेस्टेरोन (progesterone) और केटोप्रोफेन (ketoprofen) शामिल हैं।
    इसलिए, यदि आप ये दवाएं ले रहे हैं, तो बादाम के तेल के इस्तेमाल से बचें।
और पढ़ें:5 पोषक तत्व, जो 15 से 65 वर्षीय महिलाओं के लिए ज़रूरी हैं
 

निष्कर्ष

Conclusionin hindi

Nishkarsh

बादाम का तेल बादाम की तरह स्वास्थ्यवर्धक है।

इसकी सबसे बड़ी ताकत आन्सेचूरेटेड फैट और विटामिन-ई है।

अपने व्यंजनों को गार्निश करने के लिए इस तेल का उपयोग करना इसके लाभ लेने का सबसे अच्छा तरीका है।

लेकिन अनरिफाइंड तेल इस्तेमाल करना याद रखें।

इसके अलावा, खाना पकाने में इसका उपयोग न करें।

loading image

क्या यह लेख सहायक था? हां कहने के लिए दिल पर क्लिक करें

आर्टिकल की आख़िरी अपडेट तिथि: : 19 Jun 2020

हमारे ब्लॉग के भीतर और अधिक अन्वेषण करें

लेटेस्ट

श्रेणियाँ

विटामिन A क्या है - स्रोत, कमी के लक्षण, रोग, फायदे और नुकसान

विटामिन A क्या है - स्रोत, कमी के लक्षण, रोग, फायदे और नुकसान

योग के लाभ, आसन और प्रकार

योग के लाभ, आसन और प्रकार

अलसी के तेल के फायदे व नुकसान

अलसी के तेल के फायदे व नुकसान

ईसबगोल के फायदे और नुकसान

ईसबगोल के फायदे और नुकसान

तनाव, चिंता और आलस्य दूर करने के लिए योग

तनाव, चिंता और आलस्य दूर करने के लिए योग
balance

सम्बंधित आर्टिकल्स

article lazy ad