अनियमित पीरियड्स के लिए गुलाब की चाय के फायदे

Benefits of rose tea for irregular periods in hindi

gulab ke fayde jane


एक नज़र

  • गुलाब की चाय आपके स्वास्थ्य के लिए कई तरह से फ़ायदेमंद है।
  • गुलाब के औषधीय गुणों का फायदा लेने के लिए इसे चाय के रूप में प्रयोग करना सबसे अच्छा रहता है।
  • पीरियड्स की समस्याओं को ठीक करने के लिए यह एक बेहतरीन उपाय है।
triangle

Introduction

Rose_tea_benefits_in_hindi

गुलाब को आमतौर पर सुगंधित, सजावटी फूलों के रूप में जाना जाता है। लेकिन, इन फूलों की पंखुड़ियों से बनी चाय के औषधीय गुणों के बारे में बहुत कम लोगों को मालूम है। एक कप गुलाब की चाय (gulab ki chai) आपके स्वास्थ्य को कई तरह से फायदा पहुँचाती है। आयुर्वेदिक चिकित्सा में गुलाब का उपयोग सदियों पुराना है और इसे गुलकंद के नाम से जाना जाता है। गुलकंद (gulkand benefits in hindi) के रूप में गुलाब की पंखुड़ियों के प्रयोग में दिक्कत यह है कि यह तरीका कैलोरी से भरपूर है।

साथ ही, इसमें चीनी का प्रयोग काफी अधिक होने के कारण मधुमेह व मोटापे के शिकार लोगों और हृदय-रोगियों के लिए यह सही नहीं रहता। इसलिए यदि आप गुलाब के औषधीय गुणों का फायदा उठाना चाहते हैं तो सबसे अच्छा रहेगा इसे चाय के रूप में प्रयोग करना। विटामिन सी, मैलिक एसिड (malic acid) पेक्टिन (pectin) और साइट्रिक एसिड (citric acid) से भरपूर, गुलाब की चाय स्वास्थ्य की दृष्टि से एक बेहद फायदेमंद चाय है, खासकर उन महिलाओं के लिए जो पीरियड्स की समस्याओं से परेशान हैं।

आइए, विस्तार से जानते हैं कि माहवारी के लिए कैसे फ़ायदेमंद है गुलाब की चाय (gulab tea) और गुलाब की चाय बनाने की विधि (चाय कैसे बनाये) क्या है।

loading image

इस लेख़ में

 

माहवारी के लिए गुलाब की चाय के फायदे

Rose tea benefits in hindi

gulab ki chai ke fayde

loading image

आपको जानकर हैरानी होगी कि गुलाब की चाय विटामिन-सी से भरपूर होती है। इसके साथ ही इसमें एंटी-इंफ्लेमेटरी (anti-inflammatory) गुण मौजूद होता है [1] और साथ ही एंटी-बैक्टीरियल (antibacterial) और एंटीसेप्टिक (antiseptic) भी है, जो इसे पीरियड्स की समस्याओं के लिए एकदम सही पेय बनाता है। यह विटामिन ए और विटामिन ई से भरपूर होती है, जो शक्तिशाली एंटीऑक्सीडेंट (antioxidant) के रूप में काम करते हैं।

गुलाब की चाय का सेवन करने से भारी पीरियड्स को कम किया जा सकता है। यह अनियमित माहवारी के लिए भी एक अच्छा उपाय साबित होता है। हर दिन के अंत में इस चाय का एक कप अपने आप को तनाव से मुक्त करने का सबसे अच्छा तरीका है। यह नर्वस सिस्टम को शांत करती है और यहां तक कि डिप्रेशन कम करने में भी बहुत मददगार है। जैसा कि हम अपने लेखों में भी पढ़ चुके हैं, कि कई बार डिप्रेशन और स्ट्रेस की वजह से भी माहवारी अनियमित हो जाती है।

इसलिए डिप्रेशन और तनाव की वजह से होने वाली माहवारी की समस्याओं में भी गुलाब की चाय काफी लाभकारी है। मासिक धर्म का दर्द लगभग 50% लड़कियों और महिलाओं को प्रभावित करता है, जिनमें से कुछ को मासिक धर्म के दौरान उल्टी, थकान, पीठ दर्द, सिरदर्द, चक्कर आना और दस्त का अनुभव होता है [2] [3]। जो महिलाएं माहवारी के दर्द से पीड़ित रहती हैं, वे इस चाय की (gulab ke fayde) मदद ले सकती हैं। काली मिर्च पाउडर और शहद के साथ 2 कप गुलाब की गर्म चाय मासिक धर्म के रक्त प्रवाह को कम करने में मदद करती है। यह चाय दर्द को कम करते हुए माहवारी के दौरान हैवी ब्लीडिंग को भी कम करती है

और पढ़ें:अजवायन से पाएं पीरियड्स के दर्द से छुटकारा
 

गुलाब की चाय कैसे बनाये

How to prepare rose tea in hindi

gulab ki chai kaise banaye

loading image

गुलाब की चाय (gulab ki chai) तैयार करना अविश्वसनीय रूप से सरल है। आप या तो ताजा या सूखे पंखुड़ियों का उपयोग कर सकते हैं। हालांकि, ये सुनिश्चित ज़रूर करें कि पंखुड़ियां कीटनाशकों से मुक्त हों। ये आमतौर पर नर्सरी से गुलाब का उपयोग नहीं करने की सलाह दी जाती है, क्योंकि इसमें बहुत कुछ डाला जाता है। इस चाय को बनाना काफी आसान है। इसमें स्वाद के लिए आप चाहे तो शहद मिला सकती हैं। इसे बेहद खास बनाने के लिए आप इसमें इलायची, लौंग और दालचीनी का उपयोग भी कर सकती हैं।

गुलाब की चाय बनाने का तरीका :-

सामग्री:

  • ताजा गुलाब की पंखुड़ियों - 1 कप
  • पानी - 1.5 कप
  • शहद - स्वाद के लिए
  • इलायची/लौंग (वैकल्पिक) - स्वाद के लिए

विधि:

  • गुलाब की पंखुड़ियों को साफ करें।
  • पंखुड़ियों के नीचे वाले सफेद हिस्से को तोड़कर अलग कर दें, अन्यथा ये आपकी चाय को कड़वा बना देगा।
  • साफ पानी के साथ फिर से गुलाब की पंखुड़ियों को रगड़ें, एक तौलिया का उपयोग कर सुखा लें और एक तरफ रख दें।
  • एक सॉस पैन में पानी गरम करें।
  • जब पानी में एक उबाल आ जाए तब इसमें पंखुड़ियों को मिलाएं और इसे 3 सेकंड के लिए उबालें।
  • आंच को धीमा करें और 5 मिनट के लिए और उबालें
  • जब तक कि पंखुड़ियों का रंग गहरा न हो जाए।
  • अब गैस बंद कर पानी को उतार लें और छानें।
  • चाहे तो इस चाय में पाउडर मसाले और शहद मिलाएं, और स्वादिष्ट गुलाब की चाय का आनंद लें।
loading image
 

निष्कर्ष

Conclusion in hindi

gulab tea ke chai ke fayde

इन सब फ़ायदों के अलावा गुलाब की चाय (gulab tea) त्वचा की सुंदरता बनाए रखने में और वज़न कम करने में भी बहुत मददगार साबित होती है। इसलिए जब भी आपका चाय पीने का मन हो तो आप सामान्य चाय न पीकर गुलाब की चाय का आनंद लें। यह न केवल आपको ताजगी प्रदान करेगी, बल्कि आपके स्वास्थ्य और सुंदरता का भी पूरा ख़याल रखेगी।

क्या यह लेख सहायक था? हां कहने के लिए दिल पर क्लिक करें

references

संदर्भ की सूचीछिपाएँ

1 .

Kumar R, Nair V, et al. “In vivo antiarthritic activity of Rosa centifolia L. flower extract”. Ayu. PMID: 27313424.

2 .

Tseng YF, Chen CH, et al. “Rose tea for relief of primary dysmenorrhea in adolescents: a randomized controlled trial in Taiwan”. J Midwifery Womens Health.PMID: 16154059.

3 .

Bani S, Hasanpour S, et al.”The Effect of Rosa Damascena Extract on Primary Dysmenorrhea: A Double-blind Cross-over Clinical Trial”. Iran Red Crescent Med J. PMID: 24719710.

आर्टिकल की आख़िरी अपडेट तिथि: : 05 Nov 2020

हमारे ब्लॉग के भीतर और अधिक अन्वेषण करें

लेटेस्ट

श्रेणियाँ

पीरियड्स में हेवी ब्लीडिंग या मासिक धर्म का अधिक दिनों तक आना

पीरियड्स में हेवी ब्लीडिंग या मासिक धर्म का अधिक दिनों तक आना

अनियमित माहवारी या अनियमित पीरियड

अनियमित माहवारी या अनियमित पीरियड

डिसमेनोरिया क्या है

डिसमेनोरिया क्या है

इन 6 टिप्स से जानें पीरियड साइकिल नियमित है या नहीं

इन 6 टिप्स से जानें पीरियड साइकिल नियमित है या नहीं

ओवुलेशन का पता लगाने के लिए बीबीटी

ओवुलेशन का पता लगाने के लिए बीबीटी
balance

सम्बंधित आर्टिकल्स

article lazy ad
x
Zealthy Chat
Dr. Priyanka | Zealthy

send