Benefits and uses of castor oil | Zealthy

अरंडी के तेल के स्वास्थ्य और त्वचा से जुड़ें फ़ायदे

Benefits and uses of castor oil in hindi

Castor oil ke upyog in hindi

एक नज़र

  • अरंडी के तेल के कई औषधीय और औद्योगिक उपयोग हैं।
  • यह तेल घावों को सूखने में मदद करता है।
  • कब्ज के लिए यह बेहद असरदार है।
  • अरंडी का तेल त्वचा और बालों में नमी बनाए रखने में मददगार है।

कैस्टर ऑयल एक बेहद फ़ायदेमंद वनस्पति तेल है जिसे लोगों ने हजारों सालों से इस्तेमाल किया है।

यह रिकिनस कम्युनिस्ट (ricinus communis) नामक पेड़ के बीजों का तेल निकालकर बनाया जाता है।

इन बीजों को कैस्टर बीन्स के रूप में भी जाना जाता है।

कैस्टर बीन्स को ताप प्रक्रिया से गुजारा जाता है, जिससे उनमें मौजूद विषैले एंजाइम खत्म हो जाते हैं, जिससे तेल इस्तेमाल के लिए सुरक्षित व फ़ायदेमंद बन जाता है।

आइये इस लेख के माध्यम से कैस्टर ऑयल के फ़ायदों के बारे में जानते हैं।

मुझे सही डॉक्टर के चुनाव में मदद चाहिए

हमारे मेडिकल एक्सपर्ट आपको अनुभवी व नज़दीकी डॉक्टर से अपॉइंटमेंट बुक कराने में मदद करेंगे

i need guidance in choosing the best doctor

इस लेख़ में /\

  1. अरण्डी के तेल के फ़ायदे
  2. अरंडी के तेल से सबंधित सावधानियां
  3. निष्कर्ष
 

1.अरण्डी के तेल के फ़ायदे

Benefits and uses of castor oil in hindi

Castor oil ke upyog in hindi

अरंडी के तेल के कई औषधीय और औद्योगिक उपयोग हैं।

यह आमतौर पर खाद्य पदार्थों, दवाओं और त्वचा की देखभाल करने वाले उत्पादों में उपयोग किया जाता है।

आज, अरंडी का तेल कब्ज और त्वचा की बीमारियों जैसे सामान्य परिस्थितियों के लिए एक लोकप्रिय प्राकृतिक उपचार बना हुआ है और आमतौर पर प्राकृतिक सौंदर्य उत्पादों में उपयोग किया जाता है।

अरंडी के तेल के फ़ायदे इस प्रकार हैं :

  1. एक शक्तिशाली लेक्जेटिव (Powerful laxative)
    अरंडी के तेल के सबसे प्रसिद्ध औषधीय उपयोगों में से एक प्राकृतिक लेक्जेटिव है।
    यह आंतों के माध्यम से मल को धक्का देने वाली मांसपेशियों की गति को बढ़ाता है।
    इस प्रकार अरंडी का तेल कब्ज से छुटकारा दिलाने में मदद करता है।
    बुजुर्गों के लिए अरंडी का तेल बेहद फ़ायदेमंद है।
    अरंडी के तेल के सेवन से बुजुर्गों में कब्ज के लक्षण कम होते हैं।
  2. एक प्राकृतिक मॉइस्चराइजर (Natural moisturizer)
    अरंडी का तेल रिकिनोइलिक एसिड (ricinoleic acid), एक मोनोअनसैचुरेटेड फैटी एसिड में समृद्ध होता है जो त्वचा को मॉइस्चराइज करने के लिए उपयोग किया जाता है।
    कैस्टर ऑयल एक बहुत बढ़िया मोइस्चराइजर है और अक्सर इसका उपयोग लोशन और क्लीन्ज़र जैसे सौंदर्य प्रसाधनों में त्वचा को नमी प्रदान करने के लिए किया जाता है।
    गाढ़ा होने के कारण इसे अक्सर अन्य तेलों जैसे बादाम, जैतून और नारियल के तेल के साथ मिला कर मॉइस्चराइज़र की तरह इस्तेमाल किया जाता है।
    इस तरह बना तेल एक प्राकृतिक और बेहद अच्छे मोइस्चराइजर का काम देता है।
  3. घाव भरने में सहायक है (Promotes Wound Healing)
    अपने मॉइस्चराइजींग गुणों के कारण, घावों पर लगाने से अरंडी का तेल त्वचा को नमी प्रदान करता है जो घावों को सूखने में मदद करता है।
    अरंडी का तेल टिशू विकास में मदद कर घाव और पर्यावरण के बीच एक अवरोध का गठन करता है, जिससे संक्रमण का ख़तरा कम हो जाता है।
    यह सूखापन और मृत त्वचा कोशिकाओं (dead skin cells) के निर्माण को रोककर घाव भरने में सहायता करता है।
  4. प्रभावशाली एंटी-इंफ़्लेम्मटरी प्रभाव (Impressive Anti-Inflammatory Effects)
    अरंडी के तेल में पाए जाने वाले मुख्य फैटी एसिड, रिकिनोइलिक एसिड, में प्रभावशाली एंटी-इंफ़्लेम्मटरी गुण होते हैं।
    अरंडी के तेल के दर्द कम करने और एंटी-इंफ़्लेम्मटरी गुण र्हिमोटोईड अर्थिरिटिस (rheumatoid arthritis) or सोरायसिस (psoriasis) जैसी बीमारी वाले लोगों के लिए विशेष रूप से सहायक हो सकते हैं।
    सूजन को कम करने के अलावा, अपने मॉइस्चराइजिंग गुणों के कारण, अरंडी के तेल सोरायसिस के मरीज़ों को शुष्क त्वचा से राहत देने में मदद करता है।
  5. मुँहासे कम करता है (Reduces pimples)
    अरंडी के तेल में मौजूद गुण मुँहासे और उनसे जुड़े लक्षणों को कम करने में काफी मददगार है।
    सूजन (inflaamation) को मुँहासे के विकास का एक प्रमुख कारण माना जाता है, इसलिए त्वचा पर अरंडी का तेल लगाने से सूजन से संबंधित लक्षण कम होते हैं।
    अरंडी के तेल में रोगाणुरोधी (anti-bacterial) गुण होते हैं जो बैक्टीरियल ग्रोथ से लड़ने में मदद कर सकते हैं।
    अरंडी का तेल एक प्राकृतिक मॉइस्चराइज़र भी है, जिस कारण यह मुंहासों वाले लोगों में सूजन और चिड़चिड़ी त्वचा को शांत करने में मदद करता है।
  6. फंगस से लड़ता है (Fights Fungus)
    कैंडिडा अल्बिकैंस (Candida albicans) नामक फंगस गम संक्रमण और रूट कैनाल संक्रमण जैसे दाँत और मुँह की समस्याओं का कारण बनता है।
    अरंडी के तेल में एंटीफंगल गुण होते हैं और यह मुंह को स्वस्थ रखते हुए फंगस से लड़ने में मदद कर सकता है।
  7. आपके बाल और स्कैल्प का रखे ख़्याल (Keeps your hair and scalp healthy)
    केस्टर ऑयल एक बढ़िया प्राकृतिक हेयर कंडीशनर है।
    सूखे या क्षतिग्रस्त बालों के लिए अरंडी के तेल के मॉइस्चराइजींग गुण विशेष लाभकारी हैं।
    नियमित रूप से बालों में अरंडी के तेल का उपयोग बालों को नरम- मुलायम और लचीला बनाता है और बालों का झड़ना भी कम हो जाता है।
    यह रूसी के लिए एक प्रभावी उपचार हो सकता है।
    साथ ही, कैस्टर ऑयल को स्कैल्प पर लगाने से शुष्क, चिड़चिड़ी त्वचा को मॉइस्चराइज करने में मदद मिलेगी और फ्लेकिंग (flaking) को कम करने में मदद मिलती है।

और पढ़ें:5 आहार जो घटाएंगे वजन और बढ़ाएंगे मेटाबॉलिज्म

मुझे सही डॉक्टर के चुनाव में मदद चाहिए

हमारे मेडिकल एक्सपर्ट आपको अनुभवी व नज़दीकी डॉक्टर से अपॉइंटमेंट बुक कराने में मदद करेंगे

i need guidance in choosing the best doctor
 

2.अरंडी के तेल से सबंधित सावधानियां

Castor oil precautions of in hindi

Castor oil use se sambandhit savdhaniya in hindi

हालांकि अरंडी का तेल आमतौर पर सुरक्षित माना जाता है, यह कुछ लोगों में प्रतिकूल प्रतिक्रिया और दुष्प्रभाव पैदा कर सकता है।

अरंडी के तेल के इस्तेमाल के दौरान बरती जाने वाली सावधानियाँ :

  1. गर्भवती महिलाओं के लिए खतरनाक (Harmful for pregnant ladies)
    यह चिकित्सकों द्वारा जन्म को प्रेरित करने के लिए उपयोग किया जाता है।
    इस कारण से, गर्भवती महिलाओं को अरंडी के तेल का सेवन नहीं करना चाहिए।
  2. दस्त का कारण बन सकता है (Can be the reason of diarrhea)
    क्योंकि कैस्टर ऑयल कब्ज को कम करने का एक प्रभावी तरीका है, अगर आप बहुत अधिक लेते हैं तो आपको दस्त हो सकता है।
    दस्त से डीहायड्रेशन और इलेक्ट्रोलाइट का असंतुलन पैदा हो सकता है।
  3. एलर्जी का कारण हो सकता है (Can be a reason of allergy)
    इसे त्वचा पर लगाने से कुछ लोगों में एलर्जी की प्रतिक्रिया हो सकती है।
    पहले यह देखने के लिए कि आपके शरीर की प्रतिक्रिया कैसी है, कैस्टर ऑयल को त्वचा के एक छोटे हिस्से पर थोड़ी-सी मात्रा में लगाकर देखें।

और पढ़ें:5 पोषक तत्व, जो 15 से 65 वर्षीय महिलाओं के लिए ज़रूरी हैं

 

3.निष्कर्ष

Conclusionin hindi

Nishkarsh

हजारों वर्षों से कैस्टर ऑयल का प्रयोग एक प्राकृतिक और घरेलू उपचार के रूप में होता आया है।

यह कब्ज से राहत देने, घाव भरने और मॉइस्चराइजर के रूप में विशेष रूप से लाभदायक है।

एक सस्ते, बहु उद्देश्यीय तेल के रूप में अरंडी का तेल काफी उपयोगी है, हालांकि इसके कुछ छोटे-मोटे साइड-एफफ़ेक्ट्स भी हैं, जैसे कि यह दस्त और एल्लर्जी का कारण बन सकता है।

इसलिए, इसका प्रयोग सावधानीपूर्वक करें।

आर्टिकल की आख़िरी अप्डेट तिथि: 07 Jan 2020

विशेषज्ञ सलाहASK AN EXPERT

कॉल

व्हाट्सप्प

अपॉइंटमेंट बुक करें