Sperm count badhane aur male infertility ko kam karne ke 8 gharelu upay in hindi

स्पर्म काउंट में वृद्धि करके पुरुष बांझपन दूर करने के 8 उत्तम तरीके

8 ways to increase sperm count to reduce male infertility in hindi

Sperm count badhane aur male infertility ko kam karne ke 8 gharelu upay in hindi

एक नज़र

  • पुरुष शुक्राणु की संख्या व स्वास्थ्य गर्भधारण के लिए बहुत महत्वपूर्ण होते हैं।
  • सेक्स की इच्छा में कमी का कारण शुक्राणु की कम संख्या हो सकती है।
  • खराब जीवनशैली के कारण वीर्य और स्पर्म को नुकसान हो सकता है।
  • स्वस्थ व पौष्टिक भोजन से स्पर्म की गिनती को सुधारा जा सकता है।

एक शिशु जन्म के लिए स्त्री के अंडाणु (egg) और पुरुष के शुक्राणु (sperm) का स्वस्थ व पूर्ण रूप में उपलब्ध होना बहुत जरूरी है।

लेकिन आधुनिकता के उपहारस्वरूप तनाव और जीवनशैली संबंधी परेशानियों के कारण स्त्री और पुरुष दोनों की ही प्रजनन क्षमता पर विपरीत प्रभाव पड़ रहा है।

विश्व के अनेक हिस्सों में पुरुष शुक्राणुओं की कम संख्या के कारण दंपत्ति बांझपन की परेशानी से ग्रस्त हो रहे हैं।

घरेलू उपाय की मदद से स्पर्म काउंट में वृद्धि करके पुरुष बांझपन को दूर किया जा सकता है।

आइये जानते हैं स्पर्म की गुणवत्ता किस कारण प्रभावित हो रही है और इससे बचने के 8 कारगर घरेलू उपाय क्या हैं इस लेख के माध्यम से।

मुझे सही डॉक्टर के चुनाव में मदद चाहिए

हमारे मेडिकल एक्सपर्ट आपको अनुभवी व नज़दीकी डॉक्टर से अपॉइंटमेंट बुक कराने में मदद करेंगे

i need guidance in choosing the best doctor

इस लेख़ में /\

  1. स्पर्म की गुणवत्ता किस कारण से प्रभावित हो रही है?
  2. स्पर्म की गुणवत्ता और संख्या को कैसे बढ़ाएँ?
  3. स्पर्म काउंट में वृद्धि करने के लिए कुछ ध्यान देने योग्य बातें
  4. निष्कर्ष
 

1.स्पर्म की गुणवत्ता किस कारण से प्रभावित हो रही है?

What factors affect the sperm quality? in hindi

Sperm ki quality kin karano se prabhavit hoti hai in hindi

एक स्वस्थ व सामान्य पुरुष के रक्त में प्रति सेकेंड लगभग 1500 स्पर्म्स का निर्माण होता है।

लेकिन विभिन्न कारणों से न केवल रक्त में बनने वाले स्पर्म की संख्या में कमी हो रही है बल्कि उनके स्वास्थ्य पर भी बुरा असर पड़ रहा है।

इस कारण पुरुष बांझपन के भी शिकार हो रहे हैं। इसके अलावा स्वस्थ पुरुष जिन परेशानियों से गुज़र रहे हैं वो हैं :-

  • सेक्स इच्छा में कमी (Decreasing Libido)

    जब एक व्यक्ति सामान्य स्थितियों में भी सेक्स की घटती हुई इच्छा से ग्रस्त होता है तब यह एक चिंताजनक स्थिति मानी जाती है।

    इस परेशानी के कारण व्यक्ति की शारीरिक और मानसिक अवस्था के साथ ही उसके सामाजिक समीकरण भी बिगड़ जाते हैं।

  • स्खलन में विकार (Erection Issue)

    पुरुष द्वारा सेक्स में स्खलन में परेशानी भी वीर्य में शुक्राणुओं की कमी का कारण माना जाता है।

    जब सेक्स के समय एक पुरुष सही रूप में उत्तेजित होने में असमर्थ होता है या फिर उपयुक्त समय तक इसे बनाए रखने में असमर्थ होता है तब यह उनके लिए शारीरिक के साथ ही मानसिक परेशानी भी बन जाती है।

  • शुक्राणु संख्या में कमी (Sperm Count)

    पुरुष वीर्य में शुक्राणुओं की संख्या में कमी भी पुरुष बांझपन का एक मुख्य कारण है।

    यह वीर्य की खराब गुणवत्ता का उदाहरण होता है।

  • शुक्राणु गतिशीलता में विकार (Sperm Motility)

    स्वस्थ शुक्राणु की सबसे बड़ी पहचान उनके रक्त और वीर्य में स्वस्थ रूप से जीवित रहने और गतिमान रहने की क्षमता के रूप में दिखाई देती है।

    वीर्य में एक निश्चित समय में जीवित शुक्राणु की संख्या और उनकी गतिशीलता से ही वीर्य के स्वास्थ्य को मापा जा सकता है।

  • टेस्टोस्टेरोन का स्तर (Level of Testosterone)

    पुरुष शरीर में बनने वाला टेस्टोस्टेरोन हार्मोन मुख्य रूप से सेक्स हार्मोन के रूप में जाना जाता है।

    जब पुरुष के शरीर में इस हार्मोन के लेवल में कमी हो जाती है तब इसके परिणामस्वरूप पुरुष में बांझपन की शिकायत हो सकती है।

और पढ़ें:15 से अधिक सुपर फूड जो स्पर्म काउंट और मोटेलिटी बढ़ा सकते हैं

मैं कन्फ्युज हूँ, मुझे मदद चाहिए

हमारे मेडिकल एक्सपर्ट उपचार की योजना तैयार करने में आपकी सहायता करेंगे

i’m confused, i need help
 

2.स्पर्म की गुणवत्ता और संख्या को कैसे बढ़ाएँ?

Way to increase the number and quality of sperms at home? in hindi

Ghar baithe sperm ki quality aur number kaise badhaye in hindi

किसी भी व्यक्ति के शरीर में स्पर्म की संख्या व गुणवत्ता के कम होने के कारण भिन्न-भिन्न हो सकते हैं।

ये कारण व्यक्ति के सामान्य स्वास्थ्य, बीमारियाँ, आनुवंशिक कारण या वातावरण से संबंधित हो सकते हैं।

लेकिन इन कारणों को दूर करके व्यक्ति के स्पर्म की हेल्थ व संख्या को बढ़ाने के लिए उपाय के रूप में निम्न काम किए जा सकते हैं :-

  • डी -ऐसपार्टिक एसिड सप्लिमेंट्स (D-Aspartic Acid Supplements)

    पुरुष शरीर में डी-ऐसपार्टिक एसिड एक विशेष प्रकार के अमीनो एसिड या प्रोटीन का एक रूप होता है जो मुख्य रूप से कुछ ग्रंथियों, वीर्य, अंडकोश और वीर्य कोशिकाओं में पाया जाता है।

    अगर किसी पुरुष के शरीर में यह अमीनो एसिड कम होता है तब उनकी प्रजनन क्षमता पर विपरीत प्रभाव पड़ता है।

    इसलिए इसको पुनः प्रभावशील बनाने के लिए डी-ऐसपार्टिक एसिड युक्त सप्लिमेंट्स लेने होंगे।

    शोध रिपोर्ट के अनुसार एक व्यक्ति यदि तीन महीने तक 2.66 ग्राम डी-ऐसपार्टिक एसिड युक्त सप्लिमेंट्स लेता है तब उसके टेस्टोस्टेरोन हार्मोन के स्तर में 30-60% और गुणवत्ता में 60-100% वृद्धि संभव हो सकती है।

  • विटामिन सी (Vitamin C)

    शरीर में विटामिनों की कमी के कारण कोई भी व्यक्ति विभिन्न प्रकार की गंभीर बीमारियों का शिकार बन जाता है।

    इसके अतिरिक्त खराब जीवनशैली, बढ़ती उम्र और पर्यावरण प्रदूषण भी शरीर के इमम्युनिटी सिस्टम को कमजोर कर देते हैं।

    इन सबका मिला-जुला प्रभाव पुरुष की प्रजनन क्षमता पर विपरीत होता है।

    इस विपरीत प्रभाव के असर को कम करने के लिए विटामिन सी युक्त खाद्य पदार्थों का नियमित सेवन बहुत जरूरी है।

    इसके नियमित सेवन से या फिर विटामिन सी युक्त 1000 एमजी सपलीमेंट्स को दिन में दो बार लेने से दो महीने में ही स्पर्म की गुणवत्ता में 92% की वृद्धि संभव हो सकती है।

    इसके अलावा विटामिन सी युक्त खाने की चीजें जैसे आंवला, संतरा, अंगूर, मुनक्का, शिमला मिर्च आदि का नियमित सेवन भी किया जा सकता है।

  • विटामिन डी (Vitamin D)

    विटामिन डी भी पुरुष शुक्राणु और टेस्टोस्टेरोन हार्मोन को बढ़ाने में मदद करने वाला तत्व माना जाता है।

    अगर किसी व्यक्ति के शरीर में इस विटामिन की कमी हो जाती है तब व्यक्ति के शुक्राणु अधिक स्वस्थ नहीं रह पाते हैं और वे बांझपन के शिकार हो जाते हैं।

    इसलिए इसके उपाय के रूप में प्रतिदिन 3.000 एमजी विटामिन डी का सेवन बहुत जरूरी माना जाता है।

    लगभग एक साल तक इस मात्रा के नियमित सेवन से टेस्टोस्टेरोन हार्मोन में लगभग 25% की वृद्धि देखी जा सकती है।

  • मेथी के दाने का नियमित सेवन (Fenugreek Supplements)

    भारतीय रसोई में मेथी दाना अन्य मसालों की भांति एक अनिवार्य मसाला है।

    स्वाद के साथ ही मेथी दाने का उपयोग विभिन्न प्रकार के रोग और बीमारियों के इलाज के लिए भी किया जाता है।

    पुरुष शुक्राणु बढ़ाने के लिए अगर प्रतिदिन 500 मिलीग्राम मेथी दाने का सेवन किया जाये तो सेक्स हार्मोन टेस्टोस्टेरोन के लेवल में महत्वपूर्ण वृद्धि देखी जा सकती है।

    इसके साथ ही शरीर पर आई अतिरिक्त चर्बी को कम करने और मांसपेशियों को मजबूत करने में भी मेथी दाने का उपयोग प्रभावशाली हो सकता है।

    प्रतिदिन 600 मिलीग्राम मेथी दाने का सेवन सेक्सजनित इच्छा, सेक्स परफ़ोर्मेंस, उत्तेजना विकार में सुधार के साथ ही सेक्स गतिविधि में तीव्रता से जुड़ी परेशानी का निवारण भी कर सकता है।

  • ज़िंक आधारित भोजन (Enough Zinc)

    जो पुरुष, बांझपन की शिकायत से ग्रस्त होते हैं वे ज़िंक आधारित भोजन के सेवन से इस परेशानी से उबर सकते हैं।

    इसके लिए वे मांसाहारी भोजन के रूप में मांस, मछ्ली और अंडे ले सकते हैं।

    पुरुष शरीर में ज़िंक की कमी होने से पुरुष को टेस्टोटेरोन हार्मोन की कमी, स्पर्म की कम संख्या और बांझपन की शिकायत महसूस कर सकते हैं।

    लेकिन ज़िंक या जस्ता आधारित भोजन में आप मछली, सेम, मटर, दही आदि का सेवन कर सकते हैं।

  • विटामिन ए (Vitamin A)

    विटामिन ए की कमी से न केवल स्वास्थ्य में गिरावट आती है बल्कि स्पर्म काउंट में भी कमी आती है।

    इसलिए घरेलू उपचार के रूप में केला और गाजर का सेवन करें और इस परेशानी से मुक्ति का सरल उपाय करें।

    इसके अलावा ब्रोकोली और फूल गोभी भी विटामिन ए का उत्तम स्त्रोत मानी जाती है।

  • ओमेगा 3 फ़ैटि एसिड (Omega 3 Fatty Acids)

    जो पुरुष स्पर्म काउंट के कम होने और स्पर्म के गिरते स्वास्थ्य को लेकर परेशान हैं उनके लिए ओमेगा 3 का सेवन निश्चय ही लाभदायक सिद्ध हो सकता है।

    इसके लिए मांसाहारी लोग सेलमन मछली और शाकाहारी लोग अखरोट का सेवन कर सकते हैं।

  • जीवनशैली में सुधार (Healthy Lifestyle)

    एक स्वस्थ जीवन शैली अनेक बीमारियों और परेशानियों से मुक्ति का कारण हो सकती है।

    इसके लिए पौष्टिक और समय पर भोजन, शराब और धूम्रपान का त्याग, नियमित व्यायाम और तनाव रहित जीवन वो सरल उपाय हैं जिनके द्वारा कोई भी व्यक्ति अपने स्पर्म की हेल्थ और संख्या दोनों को उपयुक्त रख सकता है।

और पढ़ें:अंतर्गर्भाशयी गर्भाधान की सफलता को प्रभावित करने वाले मुख्य कारक

 

3.स्पर्म काउंट में वृद्धि करने के लिए कुछ ध्यान देने योग्य बातें

Things to keep in mind to increase sperm count in hindi

Sperm count mein vridhi karne ke liye kuch dhyan dene yogya baatein

स्पर्म काउंट में वृद्धि करने के लिए कुछ ध्यान देने योग्य बातें इस प्रकार हैं :-

  1. दैनिक भोजन में अधिक से अधिक फल और सब्जियों का सेवन करें;

  1. शारीरिक वज़न को नियंत्रित रखें;

  1. तनाव से दूर रहकर प्रसन्नचित जीवन-यापन करें;

  1. अधिक कसे और टाइट अन्तःवस्त्र न पहनें;

  1. लैपटॉप को हमेशा मेज़ पर रखकर ही इस्तेमाल करें;

  1. मोबाइल को हर समय पैंट की जेब में न रखें;

  1. सेक्स के वक़्त हमेशा लुब्रिकेंट का प्रयोग न करें;

  1. सोया मिल्क भी पुरुष शुक्राणु को हानि पहुँचाता है, इसलिए इसका सेवन कम से कम करें;

  1. चाय और कॉफी का सेवन कम से कम करें;

  1. स्टीम बाथ के लिए अधिक गरम पानी का इस्तेमाल न करें;

और पढ़ें:अच्छी फर्टिलिटी क्लिनिक खोजने से पहले जरूर ध्यान दें ये 6 बातें

मुझे सही डॉक्टर के चुनाव में मदद चाहिए

हमारे मेडिकल एक्सपर्ट आपको अनुभवी व नज़दीकी डॉक्टर से अपॉइंटमेंट बुक कराने में मदद करेंगे

i need guidance in choosing the best doctor
 

4.निष्कर्ष

Conclusionin hindi

Nishkarsh

पुरुष अगर किसी कारण से सेक्स में सक्रिय भाग नहीं ले पा रहे हैं या इसकी इच्छा में कमी पाते हैं तो उन्हें टेस्ट करवाना चाहिए।

अगर टेस्ट में स्पर्म की अनिवार्य गिनती या उनकी जीवन प्रत्याशी में कमी निकलती है तब इसके लिए समुचित घरेलू उपाय से इस परेशानी को ठीक किया जा सकता है।

आर्टिकल की आख़िरी अप्डेट तिथि: 07 Sep 2019

विशेषज्ञ सलाहASK AN EXPERT

कॉल

व्हाट्सप्प

अपॉइंटमेंट बुक करें