10 स्वास्थ्य जांच जो महिलाओं को करानी चाहिए

10 health screenings which every woman should undergo in hindi

अल्सरेटिव कोलाइटिस के लिए योगासन क्या है


एक नज़र

  • एक सामान्य रक्तचाप 120/80 मिमी एचजी (mm Hg) होता है।
  • कोलेस्ट्रॉल का सही स्तर 200 मिलीग्राम/डेसिलिटर (mg/dl) होना चाहिए।
  • बोन डेंसिटी टेस्ट से ऑस्टियोपोरोसिस का पता चलता हैं।
triangle

Introduction

10_स्वास्थ्य_जांच_जो_सभी_महिलाओं_को_करानी_चाहिए

एक महिला का स्वस्थ्य (women health in hindi) होना बहुत आवश्यक होता है। एक महिला घर की नीव होती है या यूं कहें कि महिला से ही घर बनता है और चलता है। महिला हर किसी की जीवन को अलग-अलग तरह से सार्थक बनाने की कोशिश करती है। ऐसे में हर किसे के जीवन में महिला का महत्व बहुत होता है। लेकिन, महिलाओं के स्वास्थ्य को बनाए रखने के लिए स्वास्थ्य परीक्षण उनके जीवन का एक महत्वपूर्ण हिस्सा होना चाहिए।

कुछ स्वास्थ्य जांच, सभी महिलाओ के स्वास्थ्य के लिए आवश्यक होती है। ऐसा करने से हम बीमारी का पता लगाकर उससे होने वाली गंभीर समस्याओं को रोक सकते हैं और साथ ही समय पर इलाज भी करवा सकते हैं। स्वास्थ्य जांच करवाने के लिए यह जरूरी नहीं कि आप अस्वस्थ्य हो। भले ही आप ठीक महसूस करते हों, फिर भी आपको नियमित स्वास्थ्य जांच करवानी चाहिए। आपके डॉक्टर आपकी आयु, स्वास्थ्य, मेडिकल हिस्ट्री, फैमिली हिस्ट्री और भविष्य में होने वाली बीमारियों से संबंधित आपको टेस्ट करवाने के बारे में बोल सकते हैं।

सभी महिलाओ के लिए एक उम्र के बाद नियमित शारीरिक जांच जरूरी हो जाती है, क्योंकि बढ़ती उम्र के साथ और मेनोपॉज़ से होने वाली बीमारियों से बचने के लिए यह आवश्यक हैं। आइए इस लेख के ज़रिए ये जानते हैं कि महिलाओं को कौन-कौन से स्वास्थ्य जांच (what is screening test in hindi) कराने चाहिए।

loading image

इस लेख़ में

  1. 1.महिलाओं के लिए स्वास्थ्य जांच है ब्लड प्रेशर की जांच
  2. 2.महिलाओं के लिए स्वास्थ्य जांच है कोलेस्ट्रॉल चेकअप
  3. 3.महिलाओं के लिए स्वास्थ्य जांच है ब्लड ग्लूकोज़ टेस्ट
  4. 4.महिलाओं के लिए स्वास्थ्य जांच है हड्डी घनत्व स्क्रीनिंग
  5. 5.महिलाओं के स्वास्थ्य जांच है सेक्सुअली ट्रांसमिटेड डिजीज टेस्ट
  6. 6.महिलाओं के ज़रूरी स्वास्थ्य जांच है पैप टेस्ट और एचपीवी टेस्ट
  7. 7.महिलाओं के ज़रूरी स्वास्थ्य जांच है मैमोग्राम टेस्ट
  8. 8.महिलाओं के लिए स्वास्थ्य जांच है कोलन कैंसर स्क्रीनिंग
  9. 9.महिलाओं के लिए आवश्यक स्वास्थ्य जांच है त्वचा स्व परीक्षा
  10. 10.महिलाओं के लिए अन्य स्वास्थ्य जांच
  11. 11.निष्कर्ष
 

महिलाओं के लिए स्वास्थ्य जांच है ब्लड प्रेशर की जांच

Women should have blood pressure checkup in hindi

स्वास्थ्य जांच क्या है

ब्लड प्रेशर एक ऐसी बीमारी है, जिसके कारण हृदय रोग, डायबिटीज़ और हार्ट अटैक का ख़तरा होने का डर रहता हैं। यदि आपको मधुमेह, हृदय रोग, किडनी की समस्याएं या कुछ अन्य परेशानी है, तो आपको वर्ष में कम से कम एक बार अपने रक्तचाप (blood pressure) की जांच करानी चाहिए। अगर,आपका ऊपर का बीपी 120 से 139 के बीच और नीचे का बीपी 80 से 89 मिमी एचजी के बीच है, तो आपको इसे हर साल जांच करवानी चाहिए। अगर,आपका ऊपर का बीपी 140 से अधिक है या नीचे का बीपी 90 से अधिक है, तो अपने डॉक्टर के साथ सलाह करनी चाहिए।

loading image
 

महिलाओं के लिए स्वास्थ्य जांच है कोलेस्ट्रॉल चेकअप

Women should have Cholesterol Checkup in hindi

what is screening test in hindi hai

कोलेस्ट्रॉल के असामान्य स्तर होने से हृदय के जोखिम के अलावा कई अन्य बिमारियों जैसे मधुमेह (diabetes) और उच्च रक्तचाप (bp) होने का खतरा रहता है। कोलेस्ट्रॉल का सही स्तर 200 मिलीग्राम/डेसिलिटर (mg/dl) होना चाहिए। अगर आप 20 साल या उससे अधिक उम्र की हैं, तो आपको कोलेस्ट्रॉल टेस्ट को हर पांच साल में करवाना चाहिए। अगर किसी महिला का ज्यादा वजन है या कोई अन्य समस्या है तो नियमित जांच करवाए।

अगर आपको मधुमेह, हृदय रोग, किडनी की समस्याएं या कुछ अन्य परेशानी है, तो अपने डॉक्टर के साथ सलाह करके नियमित रूप से जांच करवाए।

और पढ़ें:एरोला और निप्पल से जुड़े तथ्य
 

महिलाओं के लिए स्वास्थ्य जांच है ब्लड ग्लूकोज़ टेस्ट

Women should have blood glucose tests in hindi

अल्सरेटिव कोलाइटिस के लिए योगासन करें

ब्लड ग्लूकोज टेस्ट के द्वारा मधुमेह (diabetes) की जांच की जाती है। 45 साल की उम्र के बाद हर तीन साल में महिलाओं को ब्लड ग्लूकोज टेस्ट और मधुमेह की जांच करवानी चाहिए। अगर आप मोटापा से ग्रस्त हैं, या आपके परिवार में मधुमेह की फैमिली हिस्ट्री है, तो आपको डॉक्टर से सलाह करके समय-समय पर ये टेस्ट कराना चाहिए।

loading image
 

महिलाओं के लिए स्वास्थ्य जांच है हड्डी घनत्व स्क्रीनिंग

Women should have Bone density test in hindi

women health in hindi kya

बोन डेंसिटी टेस्ट, ऑस्टियोपोरोसिस (Osteoporosis) बीमारी को जानने के लिए किया जाता हैं। जिनका शरीर पतला होता हैं या जिन्हे किसी गंभीर बीमारी के होने की आशंका होती है, उन्हें 50 साल की उम्र में यह टेस्ट कराना चाहिए। सामान्य व्यक्तियों को यह टेस्ट 65 वर्ष की आयु में शुरू करवाना चाहिए।

और पढ़ें:क्यों मैमोग्राम की आवश्यकता 40 पर शुरू होती है
 

महिलाओं के स्वास्थ्य जांच है सेक्सुअली ट्रांसमिटेड डिजीज टेस्ट

Women should have STD test in hindi

what is screening test in hindi kya

एसटीआई (STI) स्क्रीनिंग टेस्ट 13 से 64 वर्ष की आयु के लिए किया जाता हैं। एचआईवी (HIV), हेपेटाइटिस बी (hepatitis B), क्लैमाइडिया (chlamydia) और सिफलिस (syphilis) स्क्रीनिंग गर्भवती महिलाओं के प्रेगनेंसी की फ़र्स्ट स्टेज में ये टेस्ट की जाती हैं। सभी महिलाओं को गर्भावस्था के दौरान गोनोरिया (Gonorrhea) और हेपेटाइटिस सी (hepatitis C) स्क्रीनिंग परीक्षणों को करवाने की सलाह दी जाती है। 25 साल से कम उम्र की सभी महिलाओं को जो यौन एक्टिविटी में एक्टिव है, उन्हें क्लैमाइडिया (chlamydia) टेस्ट करवाने की सलाह दी जाती है।

और पढ़ें:जाने स्तन मसाज करने के लाभ
 

महिलाओं के ज़रूरी स्वास्थ्य जांच है पैप टेस्ट और एचपीवी टेस्ट

Women should have Pap test and HPV test in hindi

स्वास्थ्य जांच क्या

पैप टेस्ट से गर्भाशय ग्रीवा (cervix) में होने वाले पूर्व कैंसर (precancerous) या कैंसर सेल्स की जांच की जाती है। अगर आपकी उम्र 20 से 30 साल के बीच है, तो आपको सर्विकल कैंसर की जांच के लिए हर 3 साल में और अगर 30 साल से ऊपर है, तो आपको हर 5 साल में पैप टेस्ट और ह्यूमन पेपिलोमा वायरस टेस्ट (एचपीवी) करवाना चाहिए।

सर्वाइकल कैंसर के लिए पैप स्मीयर टेस्ट सबसे महत्वपूर्ण जांच है, जो इससे होने वाली मृत्यु दर को कम करने में मदद करता है। [1] अगर आपने अपना गर्भाशय (uterus) और गर्भाशय ग्रीवा (cervix ) हटवा दिया है, और आपको सर्विकल कैंसर नहीं है, तो आपको पैप स्मीयर टेस्ट कराने की आवश्यकता नहीं है।

और पढ़ें:जॉगर्स निप्पल के जोखिम और इससे बचाव
 

महिलाओं के ज़रूरी स्वास्थ्य जांच है मैमोग्राम टेस्ट

Women should have Mammogram test in hindi

women health in hindi kya

दुनिया भर में, स्तन कैंसर महिलाओं को प्रभावित करने वाला सबसे आम कैंसर है, और आने वाले वर्षों में भी इस मामले के बढ़ने और साथ ही मृत्यु दर में भी वृद्धि होने की उम्मीद है।[2] इसलिए, महिलाओं के लिए ब्रेस्ट कैंसर की जांच कराना आवश्यक है। मैमोग्राम एक तरह का स्तन टेस्ट (Breast test) होता है, जिसमें एक्स-रे (X -Ray) के जरिए स्तन की पूरी जांच करके स्तन में होने वाले परिवर्तनों के बारे में जानने की कोशिश की जाती हैं।

40 वर्ष से अधिक उम्र की महिलाओं को साल में एक बार और 50 वर्ष या उससे ज्यादा उम्र की महिलाओं को वर्ष में दो बार ये टेस्ट करानी चाहिए। जो महिलायें बच्चा होने के बाद बच्चे को स्तनपान नहीं करवा पाती हैं, उन्हें मैमोग्राफी ज़रूर कराना चाहिए। हर महीने स्वयं स्तन जांच यानि कि ब्रेस्ट सेल्फ-एग्जामिनेशन करने के बाद अगर आपको स्तन परिवर्तन या कुछ असमान्यता महसूस तो तुरंत डॉक्टर से मिलकर मैमोग्राम टेस्ट करवाने की सलाह करें।

कई वर्षों से, महिलाओं में स्तन कैंसर के विकास के लिए सबसे सरल विधि के रूप में स्तन स्व-परीक्षा को बढ़ावा दिया गया है। [3]

और पढ़ें:निप्पल की समस्याएँ
 

महिलाओं के लिए स्वास्थ्य जांच है कोलन कैंसर स्क्रीनिंग

Women should have Colon cancer screening in hindi

अल्सरेटिव कोलाइटिस के लिए योगासन क्या

इस टेस्ट से पॉलीप्स (Polyp) और कैंसर के विकसित होने या फैलने से पहले उसका इलाज़ किया जा सकता हैं। इस टेस्ट में कोलोनोस्कोपी (Colonoscopy) की जाती हैं। ये टेस्ट हर 10 साल में 45 या 50 साल की उम्र शुरू होने पर कराना चाहिए। इंफ्लैमटॉरी बॉवल डिजीज (inflammatory bowel disease) या अल्सरेटिव कोलाइटिस (ulcerative colitis ) या क्रोहन डिजीज (Crohn disease) की हिस्ट्री होने पर यह जांच करवानी चाहिए।अल्सरेटिव कोलाइटिस के लिए योगासन करने से भी बहुत फायदा मिलता है।

और पढ़ें:निप्पल में दर्द के घरेलू उपाय
 

महिलाओं के लिए आवश्यक स्वास्थ्य जांच है त्वचा स्व परीक्षा

Women should have Skin self exam in hindi

what is screening test in hindi kya

सभी महिलाओं को घर पर हर महीने सिर से पैर तक अपनी त्वचा की जांच करनी चाहिए। अपने शरीर की त्वचा पर किसी नए परिवर्तन या पुराने मोल में हुए परिवर्तन की जांच करें। कोई भी नया परिवर्तन स्किन कैंसर हो सकता हैं। अगर आपके परिवार में किसी को स्किन कैंसर हुआ है, तो अपने डॉक्टर या त्वचा विशेषज्ञ मिलकर सलाह अवश्य करें।

और पढ़ें:निप्पल में पैगेट की बीमारी
 

महिलाओं के लिए अन्य स्वास्थ्य जांच

Women should have other screening tests also in hindi

women health in hindi kya

सभी महिलाओ को समय-समय पर डेंटल टेस्ट, आँखो का टेस्ट, इम्यूनाइजेशन (immunization) कराना चाहिए। डॉक्टर के पास जब भी जाएँ, अपना वजन, हाइट और बीएमआई की जांच ज़रूर कराए ताकि इससे ये पता चल सके कि वज़न अधिक बढ़ रहा है या वज़न कम हो रहा है, हाइट उम्र के अनुसार सही तरीके से बढ़ रही है या नहीं और बॉडी मास इंडेक्स सही है या नहीं।

और पढ़ें:निप्पल से रिसाव क्या चिंता का विषय है
 

निष्कर्ष

Conclusion in hindi

अल्सरेटिव कोलाइटिस के लिए योगासन क्या

सभी महिलाओ के लिए स्वास्थ्य जांच करवाना बहुत महत्वपूर्ण होता हैं। सभी स्वास्थ्य जांच कराने का एक सही समय होने के साथ-साथ एक सही उम्र होती है। ऐसे में अपने डॉक्टर से परामर्श करने के बाद जांच ज़रूर कराए।

क्या यह लेख सहायक था? हां कहने के लिए दिल पर क्लिक करें

references

संदर्भ की सूचीछिपाएँ

2 .

Anastasiadi Z, Lianos GD, et al. “Breast cancer in young women: an overview.Updates Surg. PMID: 28260181

3 .

Šašková P, Pavlišta D. et al. “[Breast self-examination. Yes or no?].Ceska Gynekol.PMID: 27918166

आर्टिकल की आख़िरी अपडेट तिथि: : 03 Sep 2020

हमारे ब्लॉग के भीतर और अधिक अन्वेषण करें

लेटेस्ट

श्रेणियाँ

स्तन संक्रमण (मैस्टाइटिस) के घरेलू उपचार

स्तन संक्रमण (मैस्टाइटिस) के घरेलू उपचार

शुरुआत में स्तन कैंसर का पता लगाने के लिए 3डी मैमोग्राफी

शुरुआत में स्तन कैंसर का पता लगाने के लिए 3डी मैमोग्राफी

सीने में दर्द के लिए योग-7 सर्वश्रेष्ठ योगासन

सीने में दर्द के लिए योग-7 सर्वश्रेष्ठ योगासन

सीने पर खुजली का क्या कारण है और इससे कैसे बचें

सीने पर खुजली का क्या कारण है और इससे कैसे बचें

एरोला और निप्पल से जुड़े तथ्य

एरोला और निप्पल से जुड़े तथ्य
balance

सम्बंधित आर्टिकल्स

article lazy ad